Claim Assistance
  • दावा सहायता संपर्क

  • स्वास्थ्य निशुल्क संपर्क 1800-103-2529

  • 24x7 रोडसाइड असिस्टेंस 1800-103-5858

  • ग्लोबल ट्रेवल हेल्पलाइन +91-124-6174720

  • विस्तारित वारंटी 1800-209-1021

  • फसल दावा 1800-209-5959

Get In Touch

हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी

अपने हेल्थ में इन्वेस्ट करें और सुरक्षित रहें

कॉम्प्रिहेन्सिव हेल्थ इंश्योरेंस प्लान्स
Port Health Insurance Policy

आपके लिए हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी

कृपया नाम लिखें
/health-insurance-plans/individual-health-insurance-plans/buy-online.html कोटेशन पाएं
दोबारा कोटेशन पाएं
कृपया मान्य कोटेशन रेफरेंस ID दर्ज करें
सबमिट करें

आपके लिए इसमें क्या है?

कैशलेस ट्रीटमेंट
6500 + नेटवर्क हॉस्पिटल्स में

इन-हाउस हेल्थ
एडमिनिस्ट्रेशन टीम

कैशलेस रिस्पॉन्स टाइम
60 मिनट के अंदर

हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी क्या है?

हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी की अवधारणा को समझने के लिए हमें यह जानना होगा कि पोर्टेबल शब्द का क्या मतलब है. पोर्टेबल शब्द उन चीज़ों के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जिन्हें आसानी से कहीं ले जाया या कहीं से लाया जा सकता है. यहां इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी का मतलब पॉलिसी के उस अधिकार से है, जो पॉलिसीधारक (फैमिली कवर सहित) को मिलता है.

इस विकल्प का उपयोग इंश्योर्ड व्यक्ति अपनी पॉलिसी को वर्तमान इंश्योरेंस कंपनी से किसी नई इंश्योरेंस कंपनी में स्विच करने के लिए कर सकता है. आखिर ऐसी कौन सी चीज़ें हैं, जिनके कारण कोई व्यक्ति अपनी इंश्योरेंस कंपनी बदलता है? इंश्योरर बदलने के बहुत से कारण हो सकते हैं, जिनमें दूसरी इंश्योरेंस कंपनी से बेहतर ऑफर मिलना भी शामिल है.

इसलिए, किसी भी व्यक्ति को इंश्योरेंस खरीदते समय यह अधिकार दिया जाता है कि वह अन्य कंपनियों द्वारा दिए जाने वाले ऑफर में से अपने लिए एक बेहतर विकल्प का चुनाव कर सके, जिससे पॉलिसी खरीदना उसके लिए आसान हो. मार्केट में बहुत सी इंश्योरेंस कंपनियां उपलब्ध हैं, ऐसे में हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी आपके लिए एक फायदेमंद चीज़ साबित हो सकती है.

<

← स्वाइप/स्क्रोल →

>

हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को बजाज आलियांज़ में क्यों पोर्ट करें?

A हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी एक ऐसे इन्वेस्टमेंट के रूप में काम करती है, जो मेडिकल एमरज़ेंसी जैसी गंभीर परिस्थितियों में आपके फाइनेंशियल खर्चों की देखभाल करती है. क्योंकि मार्केट में बहुत सी इंश्योरेंस कंपनियां मौजूद हैं, तो ऐसे में खरीदार के लिए मुश्किल हो जाता है कि वह कौन सी पॉलिसी चुने. बजाज आलियांज़ निम्नलिखित लाभों और कवरेज प्लान के साथ हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी प्रदान करता है.

बजाज आलियांज़ से हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने के लाभ

  • बजाज आलियांज़ 6,000 से अधिक हॉस्पिटल्स के साथ जुड़ा है और आपको कैशलेस हेल्थ इंश्योरेंस क्लेम की सुविधा प्रदान करता है.
  • फोन के माध्यम से क्लेम सेटलमेंट सर्विस के लिए 24/7 सहायता उपलब्ध है.
  • इन-हाउस हेल्थ एडमिनिस्ट्रेशन टीम (एचएटी) क्लेम सेटलमेंट के प्रोसेस को तेज़ और आसान बनाती है.
  • इसमें हेल्थ सीडीसी लाभ भी मिलता है, जिससे पॉलिसीधारक अपने ऐप-इंश्योरेंस वॉलेट के माध्यम से क्लेम रजिस्टर कर सकता है.
  • कस्टमर को बिना किसी क्लेम वाले वर्ष के लिए, प्रत्येक वर्ष 10% संचयी बोनस लाभ प्रदान किया जाता है, जो 100% तक भी हो सकता है.
  • इंश्योर्ड बच्चे के साथ रहने के लिए भी डेली कैश लाभ दिया जाता है.
  • बजाज आलियांज़ की पॉलिसी अंग दाता के खर्चों को सम इंश्योर्ड तक कवर करती है.
  • हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को खरीदने और रिन्यू करने का प्रोसेस ऑनलाइन है, जिससे आप कागज़ी कार्यवाही से बच जाते हैं और साथ ही आपका समय भी बच जाता है.
  • यहां बेरियाट्रिक सर्जरी जैसी मुश्किल सर्जरी के लिए कवरेज का लाभ मिलता है.
  • इंश्योर्ड व्यक्ति हेल्थ इंश्योरेंस एक्सपर्ट द्वारा अपने सवालों के तुरंत और बेहतर समाधान पा सकते हैं.
  • इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80D के तहत डिडक्शन के साथ रु.100,000 तक की टैक्स छूट का लाभ भी प्रदान किया जाता है. 

बजाज आलियांज़ द्वारा ऑफर किया जाने वाला कवरेज

  • बजाज आलियांज़ अपने कस्टमर को प्री-हॉस्पिटलाइज़ेशन और पोस्ट-हॉस्पिटलाइज़ेशन के लिए कवरेज प्रदान करता है.
  • मैटरनिटी और नवजात शिशु के खर्चों के लिए कवरेज ऑफर किया जाता है.
  • यह इन-हॉस्पिटल खर्चों, रूम के किराए और बोर्डिंग के खर्चों के लिए भी कवरेज प्रदान करता है.
  • बजाज आलियांज़ से खरीदी गई हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी आपको वैकल्पिक इलाज, जैसे- आयुर्वेद, योग और होम्योपैथी के लिए कवरेज प्रदान करती है.
  • डॉक्टर की कंसल्टेशन और एम्बुलेंस के शुल्क भी बजाज आलियांज़ द्वारा प्रदान की गई हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में कवर किए जाते हैं. 

हेल्थ पॉलिसी में पोर्ट करने वाली चीज़ों की लिस्ट

जब भी आप हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते हैं, तो ऐसी बहुत सी चीज़ें हैं, जिन्हें स्पष्ट रूप से समझने की आवश्यकता होती है. आप अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में जिन चीज़ों को पोर्ट कर सकते हैं, उनके बारे में जानने के लिए नीचे एक लिस्ट दी गई है.

  1. आप अपने सभी वर्तमान इंश्योर्ड सदस्यों को पोर्ट कर सकते हैं.
  2. आप कुछ खास बीमारियों के लिए प्रतीक्षा अवधि को भी पोर्ट कर सकते हैं.
  3. आप पहले से मौजूद बीमारियां की प्रतीक्षा अवधि को भी पोर्ट कर सकते हैं.
  4. वर्तमान सम इंश्योर्ड को पोर्ट कर सकते हैं.
  5. अगर आपके मैटरनिटी लाभ में प्रतीक्षा अवधि है, तो उसे भी पोर्ट किया जा सकता है.
  6. आपका जमा किया हुआ संचयी बोनस भी पोर्ट किया जा सकता है.

 

हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट्स

हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी सुविधा का लाभ उठाने के लिए, इंश्योरेंस कंपनी को निम्नलिखित डॉक्यूमेंट्स सबमिट करने पड़ते हैं. आवश्यक डॉक्यूमेंट्स की लिस्ट नीचे दी गई है. 

  1. आपको अपनी पिछली पॉलिसी के डॉक्यूमेंट्स सबमिट करने होंगे. वर्षों की निरंतरता सबमिट की गई पॉलिसियों पर निर्भर करती है.
  2. प्रपोज़ल फॉर्म की भी आवश्यकता होगी.
  3.  आपको पिछले क्लेम की जानकारी देनी होगी.
  4. एज प्रूफ के लिए डॉक्यूमेंट.
  5. आपके द्वारा जांच, डिस्चार्ज कार्ड, रिपोर्ट, लेटेस्ट प्रिस्क्रिप्शन और क्लीनिकल कंडीशन संबंधी घोषणा किए जाने पर आपसे उससे संबंधित डॉक्यूमेंट मांगे जाएंगे.

हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट करने के चरण

यह पॉलिसीधारक का अधिकार है कि वह मौजूदा इंश्योरेंस पॉलिसी को किसी अन्य इंश्योरेंस कंपनी में पोर्ट कर सकता है, लेकिन पोर्ट करने का प्रोसेस थोड़ा कठिन है. इसलिए, बजाज आलियांज़ के पोर्टेबिलिटी प्रोसेस को आपके पोर्ट करने के अनुभव को बेहतर बनाने और एक इंश्योरेंस कंपनी से दूसरी इंश्योरेंस कंपनी में आसानी से पोर्ट करने के लिए आसान बनाया गया है. अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट करने के लिए आपको बस तीन चरणों के प्रोसेस से गुज़रना पड़ता है.

चरण 1 : इंश्योर्ड व्यक्ति के नाम और आयु सहित मौजूदा इंश्योरेंस की जानकारी के साथ पोर्टेबिलिटी फॉर्म भरें.

चरण 2 : नई इंश्योरेंस कंपनी की पूरी जानकारी के साथ प्रपोज़ल फॉर्म भरें.

चरण 3 : संबंधित डॉक्यूमेंट्स सबमिट करें.

आईआरडीए के अनुसार हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के नियम

हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी आपको अपनी मौजूदा इंश्योरेंस पॉलिसी को किसी अन्य इंश्योरेंस कंपनी में पोर्ट करने का अधिकार प्रदान करती है, लेकिन इसके लिए आपको कुछ नियमों का पालन करना होगा.

आईआरडीए द्वारा निर्धारित नियमों और विनियमों के अलावा ऐसा कोई हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी एक्ट नहीं है, जो इंश्योरेंस कंपनियों के बदलने से जुड़े मामलों का नियंत्रण करता हो. इसलिए, इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट करते समय इंश्योरेंस कंपनी और पॉलिसीधारक, दोनों को इन निर्धारित नियमों का पालन करना होगा. 

पॉलिसीधारक के अधिकार

पॉलिसी का प्रकार: पॉलिसीधारक की इंश्योरेंस पॉलिसी को केवल उसी प्रकार की पॉलिसी में पोर्ट किया जा सकता है, जिस तरह की मौजूदा पॉलिसी है. पोर्टेबिलिटी प्रोसेस में कवरेज या पॉलिसी के प्रकार में बड़े बदलाव नहीं किए जा सकते हैं.

इंश्योरेंस कंपनी: एक इंश्योरेंस कंपनी से दूसरी कंपनी में स्विच करते समय, पॉलिसीधारक को लाइफ इंश्योरेंस कंपनी और जनरल इंश्योरेंस कंपनी के बीच अंतर को समझना होगा.

हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को केवल तभी पोर्ट किया जा सकता है, जब व्यक्ति उसी तरह की इंश्योरेंस कंपनी चुनता है, जिस तरह की मौजूदा इंश्योरेंस कंपनी है. यह बात आपकी मौजूदा और भावी इंश्योरेंस कंपनी, दोनों के लिए महत्वपूर्ण है.

मौजूदा इंश्योरेंस कंपनी का जवाब: वर्तमान इंश्योरर पॉलिसीधारक के पोर्टेबिलिटी अनुरोध को स्वीकार करने के लिए अधिकतम तीन दिन का समय ले सकता है.

पोर्टिंग फीस: मौजूदा इंश्योरर या नया इंश्योरर, कोई भी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट करने के लिए कोई शुल्क नहीं ले सकता. हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के मामले में आईआरडीए द्वारा निर्धारित नियमों में से यह एक नियम है.

ग्रेस पीरियड: हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के एप्लीकेशन के प्रोसेस में पहुंचने पर पॉलिसीधारक को अतिरिक्त ग्रेस पीरियड का लाभ उठाने का अधिकार दिया जाता है.

पॉलिसीधारक को 30 दिनों की अवधि दी जाती है, जिसके दौरान प्रो-रेटा के आधार पर प्रीमियम का भुगतान करना होता है. यानी, पुरानी पॉलिसी कितने दिनों तक एक्टिव रही थी, उसके आधार पर प्रीमियम की गणना की जाती है.

●     सम इंश्योर्ड और कवरेज की सीमा: पॉलिसीधारक के पास सम इंश्योर्ड और नई पॉलिसी के कवरेज की सीमा को बढ़ाने का अधिकार है. लेकिन यह पूरी तरह से इंश्योरेंस कंपनी और उसके द्वारा दिए जाने वाले अप्रूवल पर निर्भर करता है.

आपको निम्न शर्तों को पूरा करना होगा

गैप: अगर पॉलिसी रिन्यूअल में कोई गैप है, तो उस पॉलिसी को किसी अन्य कंपनी को पोर्ट नहीं किया जा सकता है. मौजूदा पॉलिसी में गैप होना एक ऐसा कारण है, जिसकी वजह से सभी प्रकार की इंश्योरेंस कंपनियां अपने कस्टमर की सेवाओं पर रोक लगा देती हैं.

इसलिए, हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के समय आपकी पॉलिसी के रिन्यूअल में कोई गैप नहीं होना चाहिए.

इंश्योरेंस कंपनी को सूचित करना: पॉलिसीधारक को मौजूदा इंश्योरेंस कंपनी को लिखित रूप से पोर्टेबिलिटी के बारे में सूचना देनी होगी. यह सूचना मौजूदा इंश्योरेंस प्लान के रिन्यूअल की तिथि से 45 दिन पहले दी जानी चाहिए.

प्रीमियम में बदलाव: किसी भी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी का प्रीमियम इंश्योरेंस कंपनी द्वारा बहुत से कारकों के आधार पर निर्धारित किया जाता है. अपनी पुरानी इंश्योरेंस कंपनी से नई इंश्योरेंस कंपनी में स्विच करने पर आपको अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान करना पड़ सकता है.

ऐसा उन मामलों में होता है, जब नया इंश्योरर उसी प्रकार की पॉलिसी के लिए अलग प्रीमियम लेता है.

प्रतीक्षा अवधि: कवरेज की सीमा वह कारक है, जिस पर अतिरिक्त प्रतीक्षा अवधि निर्भर करती है. अगर पॉलिसीधारक कवरेज बढ़ाना चाहता है और इसे इंश्योरेंस कंपनी द्वारा अप्रूव कर दिया जाता है, तो नई इंश्योरेंस कंपनी के नियम व शर्तों के अनुसार पॉलिसीधारक को प्रतीक्षा अवधि प्रदान की जाती है.

आपको हेल्थ इंश्योरेंस पोर्ट कराने के बारे में कब सोचना चाहिए?

जब आप अपनी इंश्योरेंस कंपनी की सेवाओं से संतुष्ट नहीं हैं: दिल्ली के श्री करण मौजूदा इंश्योरेंस कंपनी द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं से खुश नहीं थे, तो इसलिए वे अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को पोर्ट करना चाहते थे. उनकी आयु कम होने के कारण, उन्हें बजाज आलियांज़ से अधिक लाभ मिले और इसलिए, उन्होंने हेल्थ इंश्योरेंस को बजाज आलियांज़ के साथ पोर्ट कराने का फैसला किया. इसी प्रकार, 58 वर्ष की आयु के मुंबई के श्री विश्वास को बजाज आलियांज़ की बेहतर सेवाओं के बारे में पता चला और उन्होंने अपने हेल्थ इंश्योरेंस को बजाज आलियांज़ के साथ पोर्ट कराने का फैसला किया.

जब आपको अतिरिक्त कवर नहीं मिलता है: बेंगलुरु की सुश्री लता ने पॉलिसीधारक को प्रदान की जाने वाली बड़े सम इंश्योर्ड के बारे में जानने के बाद बजाज आलियांज़ के साथ हेल्थ इंश्योरेंस पोर्ट कराने का विकल्प चुना.

जब आपको बेहतर विकल्प मिलते हैं: यह हो सकता है कि जब आप दो अलग-अलग इंश्योरेंस कंपनियों की तुलना करें, तो आपको हर कंपनी के अलग-अलग लाभों के बारे में पता चले. चंडीगढ़ की सुश्री अनीता ने रिन्यूअल के लिए आयु सीमा, रूम के किराए की सीमा और पॉलिसी प्रीमियम के बारे में जानने के बाद अपने हेल्थ इंश्योरेंस को बजाज आलियांज़ में पोर्ट करने का फैसला किया.

पारदर्शिता से जुड़ी किसी समस्या के होने पर: बजाज आलियांज़ पॉलिसी डॉक्यूमेंट की पारदर्शिता सुनिश्चित करता है. पुणे के श्री कार्तिक ने हमारी कंपनी की पारदर्शिता पॉलिसी को ठीक से पढ़ा और फिर अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को बजाज आलियांज़ में पोर्ट कराने का फैसला किया.

हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के लाभ और नुकसान

चाहे आप कोई गैजेट खरीदें या फिर हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी, सभी में कुछ न कुछ लाभ और कमियां तो होते ही हैं. अगर आप हेल्थ पॉलिसी पोर्टेबिलिटी के नुकसान और लाभ के बारे में नहीं जानते हैं, तो आपको लंबे समय तक पछताना पड़ सकता है. इसलिए, अगर आप हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको निम्न लाभों और नुकसान के बारे में जानकारी होनी चाहिए. 

लाभ  नुकसान
निरंतर लाभ: हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के सबसे बड़े लाभों में से एक यह है कि आपको मौजूदा पॉलिसी में मिलने वाले किसी भी लाभ को खोना नहीं पड़ता है. आप अगली पॉलिसी में भी लगातार लाभ ले सकते हैं. रिन्यूअल के दौरान हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी: हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्टेबिलिटी में एक सबसे बड़ी कमी यह है कि इसे केवल पॉलिसी के समाप्त होने की तिथि से पहले ही पोर्ट किया जा सकता है. 
नो क्लेम बोनस बन रहता है: हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी में आप अपने नो क्लेम बोनस को बनाए रख सकते हैं, जो आपकी नए इंश्योरेंस पॉलिसी के प्रीमियम में दिखाई देता है.  प्लान में सीमित बदलाव: हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के लिए प्लान को अंतिम रूप देते समय आप अपने प्लान में बहुत बदलाव नहीं कर सकते. अगर आप प्लान के बदलावों को कस्टमाइज़ करना चाहते हैं, तो प्रीमियम और अन्य नियम और शर्तें भी उसके अनुसार बदल जाएंगे.
प्रतीक्षा अवधि पर कोई प्रभाव नहीं: हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट करते समय आपकी पॉलिसी की प्रतीक्षा अवधि प्रभावित नहीं होती है. विस्तृत कवरेज के लिए अधिक प्रीमियम: अगर आप अपने पिछले प्लान की तुलना में अधिक कवरेज चाहते हैं, तो हेल्थ इंश्योरेंस पोर्ट हो जाने के बाद आपको अधिक प्रीमियम का भुगतान करना होगा.

आपके हेल्थ पॉलिसी पोर्टेबिलिटी के अनुरोध को कब अस्वीकार किया जा सकता है?

इंश्योरर आपके हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के अनुरोध को अस्वीकार कर सकता है. इसलिए आपको कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना होगा, जो हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट करने के लिए आवश्यक हैं.

जब आप अधूरी जानकारी प्रदान करते हैं: हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के समय आपको नए इंश्योरर के साथ पारदर्शिता बनाई रखनी चाहिए. इंश्योर्ड व्यक्ति और उससे संबंधित पहलुओं के बारे में जानकारी छिपाने से पोर्टेबिलिटी का अनुरोध अस्वीकार हो सकता है. इसलिए इंश्योरर से व्यक्तिगत रूप से संपर्क करें और आवश्यक जानकारी प्रदान करें.

डॉक्यूमेंट्स सबमिट करने में देरी: पॉलिसीधारक को हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी प्रोसेस को एक निश्चित समय-सीमा के भीतर पूरा करना होगा. इसलिए, आपको अपने डॉक्यूमेंट्स सबमिट करने में देरी नहीं करनी चाहिए और साथ ही समय से इंश्योरर को सूचित कर देना चाहिए कि आप हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट करने करना चाहते हैं.

क्लेम हिस्ट्री भी पोर्टेबिलिटी अप्रूवल को प्रभावित कर सकती है: अगर आपकी क्लेम हिस्ट्री में धोखाधड़ी का कोई मामला है, तो पोर्टेबिलिटी अनुरोध के अस्वीकार होने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है. अगर आपके द्वारा प्रदान की गई जानकारी में धोखाधड़ी या गलत बयानी पाई जाती है, तो इंश्योरेंस कंपनी को आपकी हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी अनुरोध को अस्वीकार करने का अधिकार है.

आपकी पिछली पॉलिसी अभी तक समाप्त नहीं हुई है?

रिन्यूअल रिमाइंडर सेट करें

रिन्यूअल रिमाइंडर सेट करें

कृपया नाम लिखें
+91
कृपया मान्य मोबाइल नं. दर्ज करें
कृपया पॉलिसी नंबर दर्ज करें
कृपया पॉलिसी नंबर दर्ज करें
कृपया तिथि चुनें

आपकी रुचि के लिए धन्यवाद. जब आपकी पॉलिसी रिन्यूअल की देय हो जाएगी, तो हम आपको एक रिमाइंडर भेजेंगे.

बजाज आलियांज़ क्यों चुनें?

  • इंश्योरेंस के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ सेवाएं..
  • क्लेम का इन-हाउस तेज़ सेटलमेंट..
  • बेहतर अंडरराइटिंग प्रैक्टिस के लिए कंपनी का नियमित प्रदर्शन.
  • प्रॉडक्ट्स की विस्तृत रेंज, जैसे हॉस्पिटलाइज़ेशन कवर, पर्सनल एक्सीडेंट कवर, टॉप-अप क्रिटिकल इलनेस, हॉस्पिटल कैश के साथ अन्य बिज़नेस सुविधाएं.
  • पूरे भारत में कैशलेस लाभ प्रदान करता है.
  • मार्केट में ई-ओपिनियन प्रदान करने वाली अकेली कंपनी.

हेल्थ इंश्योरेंस क्यों?

हेल्थ हमारे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण पहलू है. इसकी सबसे अधिक देखभाल करने की आवश्यकता होती है. हमारी वर्तमान लाइफस्टाइल के कारण भविष्य में हेल्थ संबंधी समस्याओं में बढ़ोत्तरी हो सकती है. इसलिए, बेहतर देखभाल के लिए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेकर तैयार रहना आवश्यक है.

video_alt

हेल्थ इंश्योरेंस पोर्ट करने से पहले जानने लायक बातें

मेडिकल एमरज़ेंसी आपके शरीर के साथ, आपके मन और आपकी जेब पर भी बुरा असर डाल सकती है. अगर किसी व्यक्ति के पास हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी नहीं है, तो उसकी पूरी सेविंग्स एक ही बार में खत्म हो सकती है. इसलिए, हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के सभी लाभ पाने के लिए व्यक्ति को एक उचित कवर खरीदना चाहिए. अगर आप पॉलिसी खरीदते समय अपनी ज़रूरतों, लाइफस्टाइल और कवरेज के बारे में नहीं सोचते हैं, तो इसका असर आपकी क्लेम राशि पर पड़ सकता है. इसलिए, आपको हेल्थ इंश्योरेंस को किसी नई इंश्योरेंस कंपनी में पोर्ट कराते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए.

वर्तमान पॉलिसी की समाप्ति तिथि

समाप्त हो जाने के बाद आप अपनी पॉलिसी को पोर्ट नहीं कर सकते. इसलिए, आपको पॉलिसी रिन्यूअल की तिथि का ध्यान रखना होगा अधिक पढ़ें

वर्तमान पॉलिसी की समाप्ति तिथि

समाप्त हो जाने के बाद आप अपनी पॉलिसी को पोर्ट नहीं कर सकते. इसलिए, आपको पॉलिसी रिन्यूअल की तिथि का ध्यान रखना होगा, क्योंकि आप इसे केवल रिन्यूअल के समय ही पोर्ट कर सकते हैं. इसके अलावा, आपको रिन्यूअल की तिथि से 45 दिन पहले पोर्टेबिलिटी के बारे में मौजूदा इंश्योरर को सूचित करना होगा

पोर्टेबिलिटी अस्वीकार न हो, इसलिए ईमानदार रहें

आपको अपने नए इंश्योरर के साथ पारदर्शिता बनाए रखनी होगी. आपको अपनी सभी जानकारी इंश्योरर के साथ शेयर करनी होगी अधिक पढ़ें

पोर्टेबिलिटी अस्वीकार न हो, इसलिए ईमानदार रहें

आपको आपके नए इंश्योरर के साथ पारदर्शिता बनाए रखनी होगी. आपको अपनी सारी मेडिकल हिस्ट्री और सभी क्लेम हिस्ट्री इंश्योरर के साथ शेयर करनी होगी, ताकि आपकी पोर्टेबिलिटी अनुरोध अस्वीकार न हो.

विभिन्न लाभों वाले एक जैसे प्लान

आपको याद रखना चाहिए कि विभिन्न इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा ऑफर किए जाने वाले एक जैसे प्लान आपकोअधिक पढ़ें

विभिन्न लाभों वाले एक जैसे प्लान

आपको याद रखना चाहिए कि विभिन्न इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा ऑफर किए जाने वाले एक जैसे प्लान आपको विभिन्न लाभ प्रदान कर सकते हैं. इसलिए, आपको किसी भी चीज़ के बारे में ऐसे ही अनुमान लगाने की ज़रूरत नहीं है, बल्कि लाभों के बारे में ध्यान से पढ़ें.

लिमिट और सब-लिमिट

हर तरह के हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज में क्लेम की जाने वाली राशि की एक निश्चित लिमिट होती है अधिक पढ़ें

लिमिट और सब-लिमिट

हर तरह के हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज में क्लेम की जाने वाली राशि की एक निश्चित लिमिट होती है. उदाहरण के लिए, रूम के दैनिक किराए को रु. 3500 तक सीमित किया जा सकता है. इसलिए, जब आप अपनी पॉलिसी पोर्ट करते हैं, तो आपको इन सब लिमिट्स को चेक करना होगा. पॉलिसी पोर्ट करने से पहले, सुनिश्चित कर लें कि लिमिट और सब-लिमिट आपके लिए उपयुक्त हैं.

हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी से जुड़े सामान्य सवाल

हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के क्या लाभ हैं?

हेल्थ पॉलिसी पोर्टेबिलिटी के कुछ लाभ नीचे दिए गए हैं:

  • आपको अपनी ज़रूरतों के अनुसार विशेष पॉलिसी मिलती है.
  • आपके द्वारा भुगतान किए गए प्रीमियम के अनुसार बेहतर वैल्यू मिलती है.
  • सम इंश्योर्ड में बढ़ोत्तरी की संभावना.
  • क्लेम-सेटलमेंट में आसानी.
  • आप कवरेज को जारी रखने का लाभ ले सकते हैं.
  • नो क्लेम बोनस को दूसरी इंश्योरेंस कंपनी में ले जाया सकता है.

 

कौन-कौन सी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट कराई जा सकती है?

आप ऐसी किसी भी इंडिविजुअल या फैमिली पॉलिसी को पोर्ट करा सकते हैं, जो जनरल इंश्योरेंस कंपनी या खास हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी द्वारा प्रदान की गई हैं. 

मुझे अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को पोर्ट कराना है. इसका क्या तरीका है?

हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट कराने के लिए आपको इन चरणों का पालन करना होगा:

  •  इंश्योर्ड व्यक्ति के नाम और आयु सहित मौजूदा इंश्योरेंस के विवरण के साथ पोर्टेबिलिटी फॉर्म भरें.
  •  नई इंश्योरेंस कंपनी के लिए पूरे विवरण के साथ प्रपोज़ल फॉर्म भरें.
  •  संबंधित डॉक्यूमेंट्स सबमिट करें.

हेल्थ इंश्योरेंस पोर्ट कराने पर मेरे संचयी बोनस और प्रतीक्षा अवधि का क्या होगा?

आप अपने संचयी बोनस को बनाए रख सकते हैं और प्रतीक्षा अवधि में बिना किसी कमी के साथ पॉलिसी का लाभ पाना जारी रख सकते हैं. इस तरह, हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के समय आपको प्रतीक्षा अवधि में कमी और लगातार रिन्यूअल का लाभ प्रदान किया जाता है.

क्या पोर्टेबिलिटी के लिए कोई अतिरिक्त शुल्क लगता है?

नहीं, हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी के लिए कोई पोर्टेबिलिटी शुल्क नहीं लगता है. लेकिन कुछ इंश्योरेंस कंपनियां ऐसा कर सकती हैं, लेकिन अगर आप बजाज आलियांज़ चुनते हैं, तो आप निश्चिंत हो सकते हैं कि आपको कोई शुल्क नहीं देना पड़ेगा. 

क्या इंश्योरेंस कंपनी को बदलते समय अपने सम इंश्योर्ड को भी बदला जा सकता है?

हां, आप नई इंश्योरेंस कंपनी के साथ अपना सम इंश्योर्ड बदल सकते हैं, लेकिन इसे स्वीकार करने का अधिकार उस इंश्योरेंस कंपनी में पास होगा, जिसमें आप हेल्थ इंश्योरेंस पोर्ट करा रहे हैं. 

अगर हेल्थ इंश्योरेंस पोर्ट कराने का विकल्प चुना जाता है, तो क्या कोई मेडिकल चेक-अप कराने की आवश्यकता होती है?

यह नए इंश्योरर द्वारा दी जाने वाली पॉलिसी के नियमों पर निर्भर करता है. अगर आपको मेडिकल चेक-अप को पूरा करने के लिए समय-सीमा दी जाती है, तो आपको इसे दी गई अवधि के भीतर पूरा करना होगा. 

मुझे पोर्टेबिलिटी के लिए कब अप्लाई करना चाहिए?

आप अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के रिन्यूअल की तिथि के 60 दिनों पहले अप्लाई कर सकते हैं. ऐसा इसलिए है कि अगर आप मौजूदा पॉलिसी के इंश्योरर को प्रीमियम का भुगतान करने में असफल रहते हैं और पॉलिसी समाप्त होने की तिथि से पहले पॉलिसी को पोर्ट नहीं करते हैं, तो पॉलिसी में गैप हो जाता है, जो पोर्टेबिलिटी अनुरोध के अस्वीकार होने का एक मुख्य कारण है. 

हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को पोर्ट कराने पर कोई नुकसान भी होता है?

नहीं, हेल्थ इंश्योरेंस को पोर्ट कराने पर संचयी बोनस और गुज़र चुकी प्रतीक्षा अवधि के लाभ बने रहते हैं.

क्या हेल्थ इंश्योरेंस कभी भी पोर्ट किया जा सकता है?

नहीं, आप केवल अपनी वर्तमान पॉलिसी समाप्त होने से पहले ही हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट कर सकते हैं. इसलिए, आपको अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के रिन्यूअल की तिथि से 45 दिन पहले पोर्टेबिलिटी के बारे में मौजूदा इंश्योरर को सूचित करना होगा.

मेरा हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी अनुरोध अस्वीकार हो गया. अब मुझे क्या करना चाहिए?

इंश्योरर ने आपको पोर्टेबिलिटी अनुरोध को अस्वीकार करने के कारणों के बारे में बताया होगा. इसलिए, आपको अपना फॉर्म सबमिट करने से पहले उन कमियों को दूर करना चाहिए. आपको अपने इंश्योरर को अपने बारे में पूरी जानकारी और मौजूदा इंश्योरेंस पॉलिसी की क्लेम हिस्ट्री प्रदान करनी होगी. आवश्यक डॉक्यूमेंट्स जमा करने में कोई देरी नहीं होनी चाहिए. 

क्या दो अलग-अलग इंश्योरेंस कंपनियों से हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज खरीदना अच्छा होता है?

अगर आप अलग-अलग इंश्योरर से एक जैसा कवरेज प्लान खरीदने की योजना बना रहे हैं, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा. इसलिए, आपको दो अलग-अलग इंश्योरर द्वारा प्रदान किए जाने वाले कवरेज प्लान के बीच के अंतर के बारे में जानना चाहिए और अपनी ज़रूरतों के अनुसार प्लान और कंपनी को चुनना चाहिए. अलग-अलग इंश्योरर से दो अलग-अलग कवरेज खरीदने पर आपको ज़्यादा बड़ी मेडिकल एमरज़ेंसी के दौरान मदद मिल सकती है.

अगर पॉलिसी हिस्ट्री में कोई प्रतिकूल चीज़ पाई जाती है, तो प्रीमियम में बढ़ोत्तरी होगी?

अगर मेडिकल हिस्ट्री में कोई प्रतिकूल चीज़ पाई जाती है, तो प्रॉडक्ट के लिए आईआरडीए के मानक दिशानिर्देशों के अनुसार प्रीमियम में बढ़ोत्तरी की जा सकती है.

पोर्टेबिलिटी अनुरोध के अस्वीकार होने के कारण

  • हो सकता है कि पूरी जानकारी न दी गई हो.
  • डॉक्यूमेंट्स सबमिट करने में देरी हुई हो या सबमिट किए गए डॉक्यूमेंट्स में कुछ गलती हो.
  • अंडरराइटिंग के कारण अनुरोध अस्वीकार होना- क्लेम हिस्ट्री, मेडिकल प्रोफाइलिंग, पिछली इंश्योरेंस कंपनी के कवरेज और नई इंश्योरेंस कंपनी के चुने गए प्रॉडक्ट में अंतर.
  • हेल्थ इंश्योरेंस पोर्टेबिलिटी अनुरोध के अस्वीकार होने का एक और कारण यह भी हो सकता है कि लगातार पॉलिसी का रिन्यूअल न कराया गया हो.
  • एप्लीकेंट की आयु मानदंडों से अधिक हो सकती है.

पोर्टिंग की बजाय, क्या अपने मौजूदा हेल्थ इंश्योरेंस प्रोवाइडर के साथ ही अपने प्लान में बदलाव किए जा सकते हैं?

हां, आप अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के रिन्यूअल के समय अपने प्लान और कवरेज में बदलाव कर सकते हैं. ये बदलाव करने के लिए आपको हेल्थ इंश्योरेंस पोर्ट कराने की आवश्यकता नहीं है. 

कस्टमर्स की राय

औसत रेटिंग:

4.75

(3,912 रिव्यू और रेटिंग के आधार पर)

विक्रम अनिल कुमार

मेरी हेल्थ केयर सुप्रीम पॉलिसी के रिन्यूअल को सुविधाजनक बनाने में आपके किए गए सहयोग को लेकर मुझे वास्तव में बहुत खुशी है. धन्यवाद. 

पृथ्वी सिंह मियान

लॉकडाउन के दौरान भी अच्छी क्लेम सेटलमेंट सर्विस. मैं कई कस्टमर को बजाज आलियांज़ हेल्थ पॉलिसी बेच पाया

अमागोंड विट्टप्पा अरकेरी

बजाज आलियांज़ का आसान और परेशानी मुक्त सर्विस. कस्टमर के लिए फ्रेंडली साइट. समझने और संचालित करने में सरल और आसान. कस्टमर को पूरी खुशी और संतुष्टि के साथ सर्विस प्रदान करने के लिए टीम को धन्यवाद ...

बजाज आलियांज़ इंश्योरेंस पॉलिसी में रुचि दिखाने के लिए धन्यवाद, इस प्रोसेस में आपकी सहायता करने के लिए हमारे ग्राहक सेवा अधिकारी जल्द ही आपको कॉल करेंगे.

कॉल बैक करें

कृपया नाम लिखें
+91
कृपया मान्य मोबाइल नं. दर्ज करें
कृपया मान्य विकल्प का चयन करें
कृपया चेकबॉक्स चुनें

डिस्क्लेमर

मैं बजाज आलियांज़ जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड को एक सुविधाजनक समय पर कॉल बैक करने के विशिष्ट अनुरोध के साथ वेबसाइट पर उपलब्ध कॉन्टैक्ट नंबर पर कॉल करने के लिए अधिकृत करता/करती हूं. मैं आगे घोषणा करता/करती हूं कि, पूरी तरह या आंशिक रूप से ब्लॉक की गई श्रेणी के तहत राष्ट्रीय ग्राहक प्राथमिकता रजिस्टर (एनसीपीआर) पर रजिस्टर किए जाने के बावजूद, मेरे अनुरोध के जवाब में भेजे गए कोई भी कॉल या एसएमएस का अनावश्यक कमर्शियल कम्युनिकेशन नहीं माना जाएगा, भले ही कॉल की सामग्री विभिन्न इंश्योरेंस प्रोडक्ट और सर्विस या इंश्योरेंस बिज़नेस की आग्रह और खरीद के उद्देश्यों के लिए हो सकती है. इसके अलावा, मैं समझता/समझती हूं कि इन कॉल को क्वालिटी और ट्रेनिंग के उद्देश्यों के लिए रिकॉर्ड और मॉनिटर किया जाएगा, और अगर आवश्यकता हो, तो मेरे लिए उपलब्ध कराया जा सकता है.

लेखक: बजाज आलियांज - अंतिम अपडेट: 16th मई 2022

डिस्क्लेमर

मैं बजाज आलियांज़ जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड को एक सुविधाजनक समय पर कॉल बैक करने के विशिष्ट अनुरोध के साथ वेबसाइट पर उपलब्ध कॉन्टैक्ट नंबर पर कॉल करने के लिए अधिकृत करता/करती हूं. मैं आगे घोषणा करता/करती हूं कि, पूरी तरह या आंशिक रूप से ब्लॉक की गई श्रेणी के तहत राष्ट्रीय ग्राहक प्राथमिकता रजिस्टर (एनसीपीआर) पर रजिस्टर किए जाने के बावजूद, मेरे अनुरोध के जवाब में भेजे गए कोई भी कॉल या एसएमएस का अनावश्यक कमर्शियल कम्युनिकेशन नहीं माना जाएगा, भले ही कॉल की सामग्री विभिन्न इंश्योरेंस प्रोडक्ट और सर्विस या इंश्योरेंस बिज़नेस की आग्रह और खरीद के उद्देश्यों के लिए हो सकती है. इसके अलावा, मैं समझता/समझती हूं कि इन कॉल को क्वालिटी और ट्रेनिंग के उद्देश्यों के लिए रिकॉर्ड और मॉनिटर किया जाएगा, और अगर आवश्यकता हो, तो मेरे लिए उपलब्ध कराया जा सकता है.

कृपया मान्य कोटेशन रेफरेंस ID दर्ज करें

  • चुनें
    कृपया चुनें
  • कृपया यहां लिखें

हमसे संपर्क करना आसान है