रिस्पेक्ट सीनियर केयर राइडर: 9152007550 (मिस्ड कॉल)

सेल्स: 1800-209-0144 सर्विस चैट: +91 75072 45858

अंग्रेजी

Claim Assistance
Get In Touch
5 Steps you to be taking to curb malaria
25 अप्रैल, 2017

मलेरिया की रोकथाम के लिए 5 सुरक्षात्मक उपाय

हर साल 25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस मनाया जाता है ता‍कि इस बीमारी के प्र‍ति जागरूकता बढ़ाई जा सके. अन्य स्वास्थ्य जागरूकता अभियान की तरह ही, इसका उद्देश्य एक खास थीम पर ध्यान केंद्रित करना है और इस साल की थीम है "एंड मलेरिया फॉर गुड". WHO के अनुसार, दक्षिण-पूर्व एशिया में अकेले भारत में मलेरिया से संबंधित 58% मामले आते हैं, जिनमें से 95% ग्रामीण और 5% शहरी क्षेत्रों से होते हैं. यह न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में मृत्यु का एक प्रमुख कारण है. मलेरिया मच्छर के काटने से होता है. इसलिए, सतर्क रहना और सावधानी बरतना ज़रूरी है. भारत में, इससे सबसे ज्‍़यादा प्रभावित क्षेत्र हैं - आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, झारखंड, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, पश्चिम बंगाल और सात उत्तर-पूर्वी राज्य. अगर आप इनमें से किसी भी प्रभावित क्षेत्र की यात्रा करते हैं, तो यात्रा से एक या दो दिन पहले मलेरिया-रोधी टैबलेट ज़रूर लें. आप बचाव के कुछ उपाय भी अपना सकते हैं जैसे:
  1. मच्छरदानी लगा कर सोना– मच्छरदानी में सोना मच्छरों और कीटों को दूर रखने का सबसे अच्छा तरीका है. ध्‍यान रखें कि मच्छरदानी को गद्दे के नीचे दबाने के बाद अंदर कोई मच्छर न रह जाएं और इस पर धूल जमने से बचाने के लिए इसे हर 10 दिन में एक बार धोएं.
  2. सिट्रोनेला तेल– इस तेल को लेमनग्रास से निकाला जाता है और इसका ज्‍़यादातर उपयोग सौंदर्य उत्पादों में किया जाता है. जैतून या नारियल तेल के साथ मिलाकर शरीर पर लगाने से यह मच्छरों को भगाने में भी असरदार होता है. इसकी केवल कुछ बूंदें ही पर्याप्त होती हैं क्योंकि इसमें बहुत तेज खुशबू होती है.
  3. अपने शरीर को ढक कर रखें – जब आपकी त्वचा ढकी नहीं होती है तो मच्छरों के आपको काटने की संभावना अधिक होती है. इससे बचने के लिए फुल स्लीव और लंबी पैंट पहनें.
  4. मच्छर भगाने वाली क्रीम और लोशन का इस्तेमाल करें– अगर आप ऐसे कपड़े पहनते हैं जिसमें आपके शरीर के कुछ हिस्से खुले रहते हैं, तो आप उन हिस्सों पर मॉस्किटो रिपेलेंट क्रीम अच्‍छी तरह से लगाएं. अगर आप सनस्क्रीन लगाते हैं तो रिपेलेंट को ऊपर से लगाएं क्योंकि रिपेलेंट की तेज गंध मच्छरों को दूर रखेगी.
  5. घर के अंदर स्प्रे का उपयोग करना– जब घर पर हों तो रिपेलेंट स्प्रे और वैपोराइज़र का उपयोग करें जो मार्केट में आसानी से उपलब्ध हैं. ये रिपेलेंट आमतौर पर प्लग-इन होते हैं या उन्हें कमरे में स्प्रे किया जाता है. इस विधि को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए, ध्‍यान रखें कि दरवाजे और खिड़कियां बंद हों.
अपनी यात्रा के बाद, संभावित लक्षणों पर नज़र बनाए रखें, मलेरिया के कुछ सामान्य लक्षण हैं:
  • बुखार
  • सिरदर्द
  • जी मितलाना
  • मांसपेशियों में दर्द
  • थकान
  • दस्त
  • ब्लडी स्टूल्स
  • अत्यधिक पसीना आना
  • खून की कमी
  • आक्षेप (दौरे)
  बाद में पछताने से बेहतर है पहले उपाय करना. जब कोई बीमारी होती है, तो बहुत सी चीजों पर ध्यान रखने की आवश्यकता होती है. ऐसे समय में, इलाज के लिए फाइनेंशियल पक्ष संभालने वाले बैकअप का होना बहुत अच्‍छा सा‍बित हो सकता है. इसलिए, मेडिकल इंश्योरेंस किसी भी बीमारी की स्थिति में मानसिक और आर्थिक रूप से तनावमुक्त रहने के लिए जरूरी है. आपकी ज़रूरतों के अनुसार बनाई गई पॉलिसी को देखने के लिए हमारी वेबसाइट पर जाएं.    

क्या आपको इस आर्टिकल से मदद मिली? इसे रेटिंग दें

औसत रेटिंग 3 / 5 वोटों की संख्या: 3

अभी तक कोई वोट नहीं मिले! इस पोस्ट को सबसे पहली रेटिंग दें.

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया?? इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

अपने विचार शेयर करें. एक कमेंट लिखें!

  • मच्छर छोटे कीट हैं जो डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी घातक बीमारियों को पैदा करने और फैलाने के लिए जिम्मेदार हैं. इन खतरनाक बीमारियों से लोगों को संक्रमित करने के अलावा, मच्छर भी एक

  • मुकुंद लाल - 14 जून, 2017, 10:12 बजे

    25 अप्रैल को मलेरिया दिवस होता है और WHO की अनुशंसा- 'एंड मले‍रिया फॉर गुड' और भारत में मलेरिया का विश्लेषण जिसके अनुसार भारत में 58%malaria के मामले हैं जिसमें ग्रामीण 95% और 5%from शहरी हैं, हमारे लिए काफी संतोषजनक विश्लेषण है.

कृपया अपना जवाब दें

आपकी ईमेल आईडी प्रकाशित नहीं की जाएगी. सभी फील्ड आवश्यक हैं