रिस्पेक्ट सीनियर केयर राइडर: 9152007550 (मिस्ड कॉल)

सेल्स: 1800-209-0144 सर्विस चैट: +91 75072 45858

अंग्रेजी

Claim Assistance
Get In Touch
Types Of Home Insurance
31 मार्च, 2021

होम इंश्योरेंस के प्रकार

सबसे पहले जानें कि होम इंश्योरेंस क्या है और इसके लिए अगर पहले आप जांच करें और फिर अपने सपनों के घर के लिए होम इंश्योरेंस लें, तो यह आपके और आपके परिवार के लिए बेहतर साबित हो सकता है. अपने लिए होम इंश्योरेंस पॉलिसी चुनने से पहले होम इंश्योरेंस के प्रकारों के बारे में अच्छी तरह से जांच-पड़ताल कर लेनी चाहिए. इससे आपको अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने और अपने हिसाब से एक सही इंश्योरेंस कवर चुनने में मदद मिलती है.  

होम इंश्योरेंस पॉलिसी की बुनियादी बातें

अगर आपके घर को किसी प्राकृतिक आपदा में नुकसान पहुंचता है, किसी दंगे में आपका घर जल जाता है या वह किसी दुर्घटना की वजह से क्षतिग्रस्त हो जाता है, तो होम इंश्योरेंस आपकी सेविंग को बर्बाद होने से बचाता है. ऐसी घटनाएं अप्रत्याशित होती हैं और ये आपको अचानक से फाइनेंशियल नुकसान पहुंचा सकती हैं. अगर आपकी होम इंश्योरेंस पॉलिसी ऐसी घटनाओं को कवर करती है, तो आपकी पॉलिसी के अनुसार आपके नुकसान की भरपाई की जाएगी.  

भारत में होम इंश्योरेंस पॉलिसी के प्रकार

फायर इंश्योरेंस, भारत में होम इंश्योरेंस पॉलिसी के सबसे आम प्रकारों में से एक है, लेकिन भारतीय होम इंश्योरेंस मार्केट में ऐसी बहुत सी अन्य पॉलिसी उपलब्ध हैं, जिनमें मिलते हैं अधिक होम इंश्योरेंस के लाभ.
  1. स्ट्रक्चरल कवर: यह इंश्योरेंस पॉलिसी का सबसे स्टैंडर्ड प्रकार है. अगर आपके घर के स्ट्रक्चर को गंभीर नुकसान पहुंचा है, तो इस स्थिति में ऐसी पॉलिसी आपको कवर प्रदान करती हैं. यह पॉलिसी आमतौर पर स्ट्रक्चर को दोबारा बनवाने या उसकी रिपेयरिंग में आने वाले खर्च को कवर करती है. ये पॉलिसी अक्सर ऐसे ऐड-ऑन के साथ ली जाती हैं, जिनमें मुख्य स्ट्रक्चर, जैसे- पोस्ट बॉक्स, पीछे की तरफ बने आंगन, बाहर की ओर बने गैरेज आदि को कवर किया जाता है.
 
  1. घर के सामान का कवर: होम कंटेंट कवर, जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है, यह आपके घर के अंदर मौजूद सामान के लिए कवरेज देता है. आमतौर पर इसमें आपके घर का फर्नीचर, चल और अचल इलेक्ट्रॉनिक आइटम, और कीमती चीज़ें, जैसे- ज्वैलरी, आदि शामिल हैं. इसमें खास बात यह है कि इंश्योर्ड आइटम का मालिकाना हक आपके पास होना चाहिए और इसे आपके द्वारा जानबूझकर नुकसान नहीं पहुंचाया गया हो.
 
  1. फायर कवर: यह नुकसान की सबसे आम वजह आगजनी के लिए कवरेज देता है. फायर इंश्योरेंस पॉलिसी में अचानक होने वाली प्राकृतिक आपदाओं और दुर्घटना होने जैसी घटनाओं को कवर किया जाता है. घर हो या घर के सामान, दोनों के कवरेज के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है. आप कहीं दूर वेयरहाउस में स्टोर किए गए अपने सामान के लिए भी फायर इंश्योरेंस ले सकते हैं.
 
  1. पब्लिक लायबिलिटी कवर: ऐसी एक स्थिति की कल्पना करें - राज अपने दोस्त मोहन के नए घर पर गए. मोहन ने कुछ पैसे बचाकर एक पुराना अपार्टमेंट खरीदा था. अभी उस अपार्टमेंट में आवश्यक रिपेयरिंग होनी बाकी थी, लेकिन मोहन वहां शिफ्ट कर चुका था और उसने अपने दोस्त राज को अपने घर पर शाम साथ बिताने के लिए बुलाया था. राज ने उसी शाम अपने लिए एक नया प्लेस्टेशन खरीदा था. उन्होंने उसे डाइनिंग एरिया में सेंटर-टेबल पर रख दिया और अचानक उसने कुछ गिरने की आवाज़ सुनी. देखा तो पाया कि छत का एक बड़ा हिस्सा उनके प्लेस्टेशन पर गिर गया था, जिससे प्लेस्टेशन बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया. अब ऐसे में अगर मोहन के पास पब्लिक लायबिलिटी कवर है, तो उसे राज को हुए नुकसान के लिए क्षतिपूर्ति मिल सकती है और वह अपने दोस्त की किसी भी लायबिलिटी की भरपाई कर सकता है.
  जब आपके घर के अंदर या कानूनी रूप से आपके मालिकाना हक वाली इमारत के भीतर किसी भी कारण से अप्रत्याशित नुकसान होता है, तो पब्लिक लायबिलिटी कवर आपको भरपाई के रूप में देय राशि का बड़ा हिस्सा प्रदान करेगा.  
  1. थेफ्ट कवर: होम इंश्योरेंस का यह खास प्रकार चोरी होने की वजह से आपको होने वाले नुकसान को कवर करता है. यह आपकी कीमती चीज़ों और चोरी हुए सामान की भरपाई करता है, बशर्ते वे आपकी पॉलिसी द्वारा कवर किए गए हों और आपके इंश्योरर को उनकी कीमत की जानकारी हो.
 
  1. लैंडलॉर्ड कवर: यह मकान मालिकों के लिए एक बेहतर कवर है. अगर आप बिल्डिंग में नहीं रहते हैं, तो यह आपकी बिल्डिंग के स्ट्रक्चर और उसके सामान को कवर करता है. जब आप वहां पर नहीं रहते, तो आपके सामान और स्ट्रक्चर का इस्तेमाल कैसे किया जा रहा है, यह आपके लिए बड़ा सरदर्द हो सकता है. अगर बिल्डिंग के सामान और बिल्डिंग पर मालिकाना हक है, तो आप उसमें होने वाले नुकसान की क्षतिपूर्ति पा सकते हैं.
 
  1. टेनेंट कवर: यह केवल सामान को कवर करता है, क्योंकि किराएदारों के पास बिल्डिंग के स्ट्रक्चर का मालिकाना हक नहीं होता है. एक किराएदार की नज़र से देखें, तो आपको मकान मालिक के इंश्योरेंस द्वारा कवर किए जाने वाले अपार्टमेंट या घर को किराए पर लेने के बारे में सोचना चाहिए. अगर प्रॉपर्टी या उसके सामान को नुकसान पहुंचता है, तो इससे आप और मकान-मालिक, दोनों परेशान होने से बच जाते हैं.
 

होम इंश्योरेंस पॉलिसी के विभिन्न प्रकारों में से कैसे चुनें?

अधिक होम इंश्योरेंस पॉलिसी के प्रकारों के बारे में जानने से आपको सही फैसला लेने में मदद तो मिल सकती है, लेकिन यह आपको उलझन में भी डाल सकता है. इन सवालों के जवाब से आपको पता चल जाएगा कि कौन सी इंश्योरेंस पॉलिसी आपके लिए बेहतर काम करेगी:
  1. आप कौन-कौन सी चीज़ों को कवर करना चाहते हैं?
  2. आप जिन चीज़ों को कवर करना चाहते हैं, उन पर मालिकाना हक किसका है?
  3. कौन सी ऐसी स्थितियां है, जिनमें आपके घर या उसके सामान को सबसे ज़्यादा नुकसान पहुंच सकता है?
  4. आपके लिए ये चीज़ें कितनी कीमती हैं?
 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  1. होम इंश्योरेंस पॉलिसी का सबसे बेहतर प्रकार क्या है?
आमतौर पर, कम्प्रीहेंसिव इंश्योरेंस पॉलिसी आपको सबसे अधिक लाभ देती है.  
  1. मुझे कितनी राशि का होम इंश्योरेंस लेना चाहिए?
दोबारा बनाने की लागत, घर के सामान की लागत, अस्थायी रूप से वैकल्पिक स्थान पर रहने की लागत, पब्लिक लायबिलिटी और अपने इंश्योरेंस के डिडक्टिबल को कैलकुलेट करें. सभी को जोड़ें और आपको पता लग जाएगा कि आपको कितनी राशि के इंश्योरेंस की आवश्यकता है.

क्या आपको इस आर्टिकल से मदद मिली? इसे रेटिंग दें

औसत रेटिंग 4 / 5 वोटों की संख्या: 2

अभी तक कोई वोट नहीं मिले! इस पोस्ट को सबसे पहली रेटिंग दें.

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया?? इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

अपने विचार शेयर करें. एक कमेंट लिखें!

कृपया अपना जवाब दें

आपकी ईमेल आईडी प्रकाशित नहीं की जाएगी. सभी फील्ड आवश्यक हैं