रिस्पेक्ट सीनियर केयर राइडर: 9152007550 (मिस्ड कॉल)

सेल्स: 1800-209-0144 सर्विस चैट: +91 75072 45858

अंग्रेजी

Claim Assistance
Get In Touch
Ola Electric Two Wheeler Insurance
9 अगस्त, 2022

ओला इलेक्ट्रिक स्कूटर की पूर्ण सुरक्षा के लिए कौन सा बाइक इंश्योरेंस लेना सबसे बेहतर है

वाहनों में इलेक्ट्रिक टेक्नोलॉजी के उपयोग को लेकर ऑटोमोटिव इंडस्ट्री एक परिवर्तन के दौर से गुजर रही है. Financial Express की रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2030 तक इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर मार्केट की उपस्थिति 25% से 30% तक पहुंचने की उम्मीद है. इलेक्ट्रिक वाहनों के क्षेत्र में इनोवेशन लाने वाली विभिन्न कंपनियों के बीच ओला की एक लाख से कम कीमत में ओला एस1 और ओला एस1 प्रो की लॉन्चिंग चर्चा का विषय बन गई है. ARAI सर्टिफिकेशन के अनुसार, इन दोनों स्कूटरों की रेंज 120 किमी से अधिक है, जो अधिकांश खरीदारों की रेंज को लेकर चिंता को दूर कर सकता है. अगर आपने भी ओला इलेक्ट्रिक स्कूटर लेने के लिए अपना मन बना लिया है, तो आपको इसके लिए इंश्योरेंस की आवश्यकताओं को भी ध्यान में रखना होगा. इलेक्ट्रिक स्कूटर होने के बावजूद, आपको इसे आरटीओ में रजिस्टर कराना होगा और साथ ही खरीदना होगा टू व्हीलर इंश्योरेंस कवर.. यह 1988 के मोटर वाहन अधिनियम से जुड़े नियामक अनुपालन के तहत है, जिसके अनुसार देश में सभी वाहनों के लिए कम से कम एक थर्ड पार्टी इंश्योरेंस कवर ज़रूर होना चाहिए. थर्ड पार्टी बाइक इंश्योरेंस कानूनी अनुपालन सुनिश्चित करता है और पॉलिसीधारक की देनदारियों के लिए फाइनेंशियल सुरक्षा प्रदान करता है. ये देनदारियां किसी तीसरे व्यक्ति की मृत्यु या शारीरिक चोट या प्रॉपर्टी के नुकसान को लेकर हो सकती हैं. तीनों ही स्थितियों में, थर्ड पार्टी पॉलिसी बचाव का काम करती है. इसमें प्रॉपर्टी नुकसान के लिए रु. 7.5 लाख तक की क्षतिपूर्ति मिलती है, जबकि चोट या मृत्यु के मामले में मुआवज़े का निर्धारण ट्रिब्यूनल द्वारा किया जाता है. थर्ड पार्टी पॉलिसी की एकमात्र कमी है कि यह अपने वाहन को होने वाले नुकसान के लिए कवरेज नहीं देती है. इसलिए, ज़्यादातर कम्प्रीहेंसिव पॉलिसी लेने की सलाह दी जाती है. कम्प्रीहेंसिव प्लान कानूनी देनदा‍रियों के कवरेज के साथ अपने नुकसान के लिए भी सुरक्षा प्रदान करता है. किसी दुर्घटना के दौरान, केवल तीसरे व्यक्ति को ही नुकसान और चोट नहीं पहुंचती है. चालक को भी इसका सामना करना पड़ता है. कम्प्रीहेंसिव इंश्योरेंस प्लान में, इन नुकसानों को इंश्योरेंस कंपनी द्वारा कवर किया जाता है. यह नुकसान बाढ़, बिजली, चक्रवात और अन्य प्राकृतिक आपदाओं के साथ-साथ मानव द्वारा अंजाम दी गई घटनाओं जैसे दंगे, तोड़-फोड़ और चोरी के कारण भी हो सकता है. इसके साथ ही कम्प्रीहेंसिव प्लान कवरेज को कस्टमाइज़ करने की सुविधा भी प्रदान करते हैं इलेक्ट्रिक वाहन इंश्योरेंस , खरीदने पर ऐड-ऑन फीचर का उपयोग करके आप यह लाभ ले सकते हैं:
  • ज़ीरो-डेप्रिसिएशन ऐड-ऑन एक लोकप्रिय कवर है, जिसमें क्लेम के दौरान मूल्‍य कम हो जाने की व‍जह से कम क्षतिपूर्ति मिलने की समस्‍या नहीं आती है.
  • एक अन्‍य विशेष ऐड-ऑन '24X7 रोडसाइड असिस्टेंस कवर' भी लिया जा सकता है, इसमें वाहन खराब होने पर सहायता मिलती है.
  • इंश्योरेंस प्लान के नो-क्लेम बोनस को बचाने के लिए 'एनसीबी प्रोटेक्शन ऐड-ऑन' भी लिया जा सकता है.
  • 'रिटर्न टू इनवॉइस कवर' में वाहन की पूरी तरह से क्षति या चोरी की स्थिति में खरीद मूल्‍य की भरपाई की जाती है.
  • हम जानते हैं कि इलेक्ट्रिक वाहन महंगे होते हैं, इसलिए 'इंजन प्रोटेक्शन ऐड-ऑन' भी लिया जा सकता है, इसमें इंजन में किसी खराबी के लिए मदद मिलती है.
* मानक नियम व शर्तें लागू ऐड-ऑन के साथ कम्प्रीहेंसिव इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते समय आपको यह ध्‍यान रखना चाहिए कि इससे प्रभावित होती है टू व्हीलर इंश्योरेंस की कीमत. इसलिए, अपने बजट को ध्यान में रखें और इंश्योरेंस कवर की सु‍विधाओं को संतुलित रखें. बीमा आग्रह की विषयवस्तु है. लाभों, शामिल न की गई चीज़ों, सीमाओं, नियमों और शर्तों के बारे में और जानकारी के लिए, कृपया खरीद पूरी करने से पहले सेल ब्रोशर/पॉलिसी शब्दावली को ध्यान से पढ़ें.

क्या आपको इस आर्टिकल से मदद मिली? इसे रेटिंग दें

औसत रेटिंग 3 / 5 वोटों की संख्या: 1

अभी तक कोई वोट नहीं मिले! इस पोस्ट को सबसे पहली रेटिंग दें.

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया?? इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

अपने विचार शेयर करें. एक कमेंट लिखें!

कृपया अपना जवाब दें

आपकी ईमेल आईडी प्रकाशित नहीं की जाएगी. सभी फील्ड आवश्यक हैं