रिस्पेक्ट सीनियर केयर राइडर: 9152007550 (मिस्ड कॉल)

सेल्स: 1800-209-0144| सर्विस: 1800-209-5858 सर्विस चैट: +91 75072 45858

अंग्रेजी

Claim Assistance
Get In Touch
physiotherapy coverage in health insurance
30 मार्च, 2023

हेल्थ इंश्योरेंस के तहत फिजियोथेरेपी कवरेज: कॉम्प्रिहेंसिव गाइड

जब आप किसी रोग से पीड़ित होते हैं, तो आपके डॉक्टर आपको उस रोग के साथ अपना जीवन एडजस्ट करते हुए ठीक से रिकवर होने में आपकी मदद करने वाला ट्रीटमेंट सुझाते हैं. जैसे, अगर आप हाइपरटेंशन के रोगी हैं तो आपको खून पतला करने वाली दवाएं लिखी जा सकती हैं, और साथ में आहार में बड़े बदलाव की सलाह भी दी जा सकती है. अगर आपको डायबिटीज़ है, तो आपको शुगर के सेवन में भारी कटौती की सलाह दी जा सकती है. इसी प्रकार, अगर आपको दुर्घटना में गंभीर चोटों का सामना करना पड़ता है, जिससे आपके चलने-फिरने, हिलने-डुलने या विभिन्न कार्य करने की शारीरिक योग्यता प्रभावित होती है, तो आम तौर पर फिज़ियोथेरेपी एक प्रभावी ट्रीटमेंट हो सकती है. ट्रीटमेंट की प्रकृति और विभिन्न प्रकारों के कारण, फिज़ियोथेरेपी थोड़ी महंगी हो सकती है. अगर आप हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी है, तो क्या आप जानते हैं कि वह आपके फिज़ियोथेरेपी ट्रीटमेंट की लागत को कवर करती है या नहीं?? आइए पता करें.

फिज़ियोथेरेपी क्या है?

इससे पहले कि हम इस प्रश्न का उत्तर दें कि ‘क्या हेल्थ इंश्योरेंस में फिज़ियोथेरेपी कवर की जाती है?', यह समझना महत्वपूर्ण है कि फिज़ियोथेरेपी क्या है. फिज़ियोथेरेपी, मेडिकल ट्रीटमेंट की एक ब्रांच है जो आपके शरीर की प्राकृतिक गतियों पर पड़े प्रभाव और उनमें होने वाली परेशानियों के ट्रीटमेंट पर फोकस करती है. जैसे, अगर आपका दायां हाथ फ्रैक्चर हो जाता है, तो डॉक्टर प्लास्टर ऑफ पैरिस से बना कास्ट चढ़ाएंगे. यह कास्ट आपकी टूटी हुई हड्डी को वापस जुड़ने में और आपके हाथ की रिकवरी में मदद देता है. हालांकि, आपके हाथ के इस्तेमाल पर लगी रोक के कारण, आपको अपना हाथ पहले जैसे सामान्य ढंग से चलाने-फिराने में मुश्किल महसूस हो सकती है. इस समस्या से निपटने के लिए, फिज़ियोथेरेपी की सलाह दी जाती है. यह सिर्फ एक उदाहरण है कि फिज़ियोथेरेपी आपको रिकवर होने में कैसे मदद दे सकती है. फिज़ियोथेरेपी, मेडिकल साइंस का एक क्षेत्र है जो निरंतर विस्तार कर रहा है; इस क्षेत्र में रिकवरी प्रोसेस को तेज़ करने और रोगी को उसकी समस्या की परेशानियों से राहत दिलाने के नए और इनोवेटिव ट्रीटमेंट पेश किए जा रहे हैं.

फिज़ियोथेरेपी के प्रकार क्या हैं?

विभिन्न प्रकार की फिज़ियोथेरेपी का इस्तेमाल विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं के ट्रीटमेंट के लिए किया जाता है. वे हैं:
  1. न्यूरोलॉजिकल फिज़ियोथेरेपी

स्ट्रोक, स्पाइनल कॉर्ड से संबंधित समस्याएं या मोटर डीजनरेटिव रोग जैसी विभिन्न न्यूरोलॉजिकल स्थितियां आपके शरीर की गतियों को प्रभावित कर सकती हैं. एक आम उदाहरण है पार्किंसन रोग, जो रोगियों की शारीरिक गतियों को गंभीरता से प्रभावित कर सकता है. अंगों का हिलते दिखना, अचानक कंपन या बोलने में अक्षमता इसके लक्षण हैं. शुरुआत में ही पता चल जाने पर, न्यूरोलॉजिकल फिज़ियोथेरेपी इन समस्याओं को मैनेज करने में मदद कर सकती है और समस्या को बढ़ाए बिना सामान्य जीवन जीने में आपकी मदद कर सकती है.
  1. ऑर्थोपेडिक फिजियोथेरेपी

हड्डियों, लिगामेंट और जोड़ों की चोटें काफी आम हैं. जब किसी खिलाड़ी को कोई चोट लगती है, जैसे एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट टियर, तो उनकी गतिविधियां प्रतिबंधित हो जाती हैं, क्योंकि अगर उसने आराम नहीं किया तो चोट बदतर हो जाएगी और रिकवरी में और अधिक समय लगेगा. ऑर्थोपेडिक फिज़ियोथेरेपी की मदद से, रिकवरी प्रोसेस में कम समय लगता है और समस्या दोबारा हुए बिना पूरी रिकवरी में मदद मिलती है.
  1. पीडियाट्रिक फिज़ियोथेरेपी

इस प्रकार की फिज़ियोथेरेपी बच्चों की संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं से संबंधित होती है. जन्म के दौरान हुई जटिलताएं, जन्मजात दोष या जीवन के शुरुआती वर्षों में हुई समस्याएं, बच्चे को सामान्य जीवन जीने से रोक सकती हैं. इस फिज़ियोथेरेपी का उद्देश्य समस्या के मूल कारण से निपटना और बच्चे को उससे निपटने में मदद देना है.
  1. जेरिएट्रिक फिज़ियोथेरेपी

आयु बढ़ने के साथ-साथ आपके शरीर में बड़े बदलाव होते हैं. ये बदलाव आपको रोज़ाना तकलीफ दे सकते हैं और दीर्घकालिक असुविधा का कारण बन सकते हैं. जोड़ों में दर्द, मांसपेशियों में दर्द या सरल कार्य करने में मुश्किल होना, बुढ़ापे में होने वाली आम समस्याएं हैं. इस आयु में मांसपेशियों का नुकसान होता है और आपका शरीर कमज़ोर हो जाता है, इसलिए आपकी दैनिक गतिविधियां सीमित हो जाती हैं. जेरिएट्रिक फिज़ियोथेरेपी आपको इन समस्याओं से निपटने में मदद देती है. यह ट्रीटमेंट गतिविधि से संबंधित समस्याओं से निपटने में मदद देता है और जोड़ों या मांसपेशियों के दर्द से धीमी राहत देता है जिससे आपको सामान्य जीवन जीने में मदद मिलती है.

ट्रीटमेंट के प्रकार

फिज़ियोथेरेपी के तहत विभिन्न समस्याओं के लिए विभिन्न प्रकार के ट्रीटमेंट की ज़रूरत होती है. इन ट्रीटमेंट में शामिल हैं:
  1. बेसिक थेरेपी

इस प्रकार के ट्रीटमेंट में, रोगी के जोड़ों और मांसपेशियों को मालिश की मदद से फ्री किया जाता है और आराम दिया जाता है. इससे रोगी की गतिशीलता में सुधार होता है.
  1. इलेक्ट्रिकल नर्व स्टीमुलेशन थेरेपी

इस ट्रीटमेंट में, अगर किसी मृत तंत्रिका के कारण गतिशीलता में समस्या हो रही है, या कोई मांसपेशी जकड़ गई है, तो उसमें हल्की इलेक्ट्रिक करंट बहाकर उसे दोबारा जीवित किया जाता है. इसे प्रभावित क्षेत्र पर इलेक्ट्रोड लगाकर या इलेक्ट्रिक कंबल की मदद से करते हैं.
  1. हाइड्रोथेरेपी

यह ट्रीटमेंट विशेष रूप से गठिया के रोगियों के लिए तैयार किया गया है. इसमें, रोगी को 30-36C तापमान वाले पानी में बैठाया जाता है. इसके बाद रोगी से कुछ व्यायाम करवाए जाते हैं जिससे मांसपेशी के दर्द से राहत मिलती है.

क्या हेल्थ इंश्योरेंस में फिज़ियोथेरेपी कवर की जाती है?

फिज़ियोथेरेपी की आवश्यकता दो स्थितियों में पैदा होती है: या तो हॉस्पिटलाइज़ेशन के बाद या हॉस्पिटलाइज़ेशन की ज़रूरत के बिना. एक लाभ हेल्थ इंश्योरेंस लाभ में से एक लाभ यह है कि यह हॉस्पिटलाइज़ेशन के बाद के ट्रीटमेंट को कवर करता है. अगर हॉस्पिटलाइज़ेशन के बाद आपके डॉक्टर ने फिज़ियोथेरेपी की सलाह दी है और आपकी पॉलिसी में हॉस्पिटलाइज़ेशन के बाद की कवरेज है, तो फिज़ियोथेरेपी की लागत कवर की जाएगी. * ध्यान रखें कि फिज़ियोथेरेपी की सलाह के लिए हॉस्पिटलाइज़ेशन आवश्यक नहीं है. हालांकि, अगर आपके डॉक्टर ने आपको इसकी सलाह कुछ स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने के लिए दी है, तो इसे ओपीडी ट्रीटमेंट माना जाएगा. कई इंश्योरेंस कंपनियां ओपीडी ट्रीटमेंट कवर नहीं करती हैं. फिज़ियोलॉजी के लिए हेल्थ इंश्योरेंस कवर के बारे में चेक करने के लिए अपना पॉलिसी डॉक्यूमेंट ध्यान से पढ़ें. * #

संक्षेप में

कुछ स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने में फिज़ियोथेरेपी से आपको लंबे समय तक अच्छे लाभ मिलते हैं. इसके लिए यह चेक करना महत्वपूर्ण है कि फिज़ियोथेरेपी शामिल है कि नहीं, जब आप खरीदते हैं भारत में हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज. इसके बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए अपने नज़दीकी इंश्योरेंस एजेंट से मिलें. * मानक नियम व शर्तें लागू # अधिक जानकारी के लिए आईआरडीएआई की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं बीमा आग्रह की विषयवस्तु है. लाभों, शामिल न की गई चीज़ों, सीमाओं, नियम और शर्तों के बारे में अधिक जानकारी के लिए, कृपया इंश्योरेंस खरीदने से पहले सेल्स ब्रोशर/पॉलिसी डॉक्यूमेंट को ध्यान से पढ़ें.  

क्या आपको इस आर्टिकल से मदद मिली? इसे रेटिंग दें

औसत रेटिंग 5 / 5 वोटों की संख्या: 18

अभी तक कोई वोट नहीं मिले! इस पोस्ट को सबसे पहली रेटिंग दें.

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया?? इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

अपने विचार शेयर करें. एक कमेंट लिखें!

कृपया अपना जवाब दें

आपकी ईमेल आईडी प्रकाशित नहीं की जाएगी. सभी फील्ड आवश्यक हैं