रिस्पेक्ट सीनियर केयर राइडर: 9152007550 (मिस्ड कॉल)

सेल्स: 1800-209-0144 सर्विस चैट: +91 75072 45858

अंग्रेजी

Claim Assistance
Get In Touch
bike maintenance tasks for a smooth ride
1 अप्रैल, 2021

बाइक का पीयूसी क्या होता है?

वायु प्रदूषण आज देश की बड़ी चिंताओं में से एक है. सरकार इसे नियंत्रित करने के लिए हर संभव कोशिश कर रही है. वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए सरकार द्वारा शुरू किए गए बहुत से कामों में से एक वाहनों के प्रदूषण की सीमा तय करना है. भारतीय सड़कों पर वाहनों की संख्या में होती बढ़ोत्तरी के कारण प्रदूषण पर नियंत्रण रखना आवश्यक हो गया है. यही कारण है कि परिवहन मंत्रालय ने केंद्रीय मोटर वाहन अधिनियम, 1989 के अनुसार ड्राइवर के लिए पीयूसी सर्टिफिकेट को अनिवार्य कर दिया है. अब आप सोचते होंगे कि बाइक या कार या किसी अन्य वाहन का पीयूसी क्या होता है? इसका महत्व क्या है? ऐसे बहुत से सवाल हैं जिनका जवाब चाहिए. आगे पढ़िए और अपने सवालों के जवाब पाइए!  

पीयूसी क्या है?

पीयूसी को प्रदूषण नियंत्रण के रूप में भी जाना जाता है, जो वाहन के उत्सर्जन लेवल का टेस्ट करने के बाद हर वाहन मालिक को जारी किया जाने वाला सर्टिफिकेट है. इस सर्टिफिकेट में वाहन द्वारा होने वाले उत्सर्जन के बारे में जानकारी होती है और पता चलता है कि उत्सर्जन तय सीमा के भीतर है या नहीं. यह टेस्टिंग देश के ऑथराइज्ड सेंटरों पर की जाती है, जो अधिकतर पेट्रोल पंप पर मौजूद होता है. बाइक इंश्योरेंस, रजिस्ट्रेशन आदि की तरह ही पीयूसी सर्टिफिकेट हमेशा वाहन चलाते समय साथ लेकर चलना आवश्यक है. पीयूसी सर्टिफिकेट में निम्नलिखित जानकारी होती है:  
  • कार, बाइक या किसी भी अन्य वाहन का रजिस्ट्रेशन नंबर.
  • टेस्ट की वैधता
  • पीयूसी का सीरियल नंबर
  • उत्सर्जन टेस्ट की तिथि
  • वाहन की उत्सर्जन रीडिंग
 

क्या मेरे लिए पीयूसी आवश्यक है?

हां, पीयूसी सर्टिफिकेट आपके लिए ड्राइविंग लाइसेंस, इंश्योरेंस और रजिस्ट्रेशन लेकर चलने की तरह ही आवश्यक डॉक्यूमेंट है. यहां बताया गया है कि यह क्यों आवश्यक है:  
  1. कानून के अनुसार यह अनिवार्य है: अगर आप अक्सर वाहन चलाते हैं, तो आपके पीयूसी सर्टिफिकेट लेकर चलना आवश्यक है. केवल डॉक्यूमेंटेशन के लिए ही नहीं बल्कि भारतीय कानून के अनुसार यह अनिवार्य भी है.
  मेरे दोस्त गौरव का ट्रैफिक चालान काट दिया गया, जबकि उसने कोई भी नियम नहीं तोड़ा था. क्यों? जानकारी करने पर पता चला कि वह मान्य पीयूसी सर्टिफिकेट साथ लेकर नहीं चल रहा था. इस वजह से उसे रु.1000 के जुर्माने का भुगतान करना पड़ा. आपको भी इस भारी जुर्माने का भुगतान न करना पड़े, इसके लिए आपके पास मान्य पीयूसी सर्टिफिकेट होना चाहिए.  
  1. यह प्रदूषण नियंत्रण को बढ़ावा देता है: पीयूसी सर्टिफिकेट लेकर चलने का दूसरा कारण यह है कि यह पर्यावरण को बचाने में भी मदद करता है. अपने वाहन के उत्सर्जन लेवल को मान्य सीमा के भीतर रखने से, आप प्रदूषण को कम करने और पर्यावरण को बचाने में मदद करते हैं.
 
  1. यह आपको अपने वाहन के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी प्रदान करता है: पीयूसी सर्टिफिकेट होने की दूसरी आवश्यकता यह है कि यह आपको वाहन के स्वास्थ्य के बारे में सूचित करता है. इस प्रकार, भारी लागत वाले किसी भी भावी नुकसान को रोकता है.
 
  1. इससे आप जुर्माने से बचते हैं: नए नियमों के अनुसार, अगर आप पीयूसी सर्टिफिकेट नहीं लेकर चल रहे हैं, तो आपसे रु.1000 का जुर्माना लिया जा सकता है. अगर आप बार-बार ऐसा करते हैं, तो यह जुर्माना रु. 2000 भी हो सकता है. इस जुर्माने से बचने के लिए आपके पास पीयूसी सर्टिफिकेट होना आवश्यक है.
 

भारत में वाहनों के लिए निर्धारित प्रदूषण मानदंड क्या हैं?

वाहन तरह-तरह के होते हैं, जैसे कार, बाइक, ऑटो और अन्य. इसलिए, फ्यूल के आधार पर तय प्रदूषण मानदंड भी अलग-अलग होते हैं. स्वीकार्य प्रदूषण के लेवल पर एक नज़र डालें.  

बाइक और 3-व्हीलर का पीयूसी क्या होता है?

बाइक और 3-व्हीलर के लिए तय किए गए प्रदूषण लेवल यहां दिए गए हैं:  
वाहन हाइड्रोकार्बन (पार्ट्स प्रति मिलियन) कार्बन मोनो-ऑक्साइड (सीओ)
31 मार्च 2000 (2 या 4 स्ट्रोक) से पहले या उस दिन निर्मित बाइक या 3-व्हीलर 4.5% 9000
31 मार्च 2000 के पहले या इस तिथि पर बने बाइक या 3-व्हीलर (2 स्ट्रोक) 3.5% 6000
31 मार्च 2000 के बाद बने बाइक या 3-व्हीलर (4 स्ट्रोक) 3.5% 4500
 

पेट्रोल कारों के लिए प्रदूषण लेवल

 
वाहन हाइड्रोकार्बन (पार्ट्स प्रति मिलियन) कार्बन मोनो-ऑक्साइड (सीओ)
भारत स्टेज 2 के मानदंडों के अनुसार बने 4-व्हीलर 3% 1500
भारत स्टेज 3 के मानदंडों के अनुसार बने 4-व्हीलर 0.5% 750
 

सीएनजी/एलपीजी/पेट्रोल वाहनों के लिए मान्य प्रदूषण लेवल (भारत स्टेज 4)

 
वाहन हाइड्रोकार्बन (पार्ट्स प्रति मिलियन) कार्बन मोनो-ऑक्साइड (सीओ)
भारत स्टेज 4 के मानदंडों के अनुसार बनाए गए सीएनजी/एलपीजी 4-व्हीलर 0.3% 200
भारत स्टेज 4 के मानदंडों के अनुसार बनाए गए पेट्रोल के 4-व्हीलर 0.3% 200
 

पीयूसी सर्टिफिकेट की वैधता अवधि कितनी होती है?

जब भी आप कोई नया वाहन खरीदते हैं, तो डीलर आपको पीयूसी सर्टिफिकेट देता है, जो एक वर्ष के लिए मान्य होता है. इसके बाद जब एक साल पूरा हो जाता है, तो आपको अपने वाहन को चेक कराने और नया पीयूसी सर्टिफिकेट पाने के लिए एक ऑथराइज़्ड उत्सर्जन टेस्टिंग सेंटर पर जाना होगा, जिस सर्टिफिकेट की वैधता छह महीने होती है. तो, इसे हर छह महीने में रिन्यू कराना पड़ेगा.  

पीयूसी सर्टिफिकेट कैसे प्राप्त करें?

इसे प्राप्त करने के लिए कुछ आसान चरणों की जानकारी यहां दी गई है:  
  • सबसे पहले, आपको एक ऑथराइज़्ड सेंटर खोजना होगा. इसके लिए आप पेट्रोल पंप पर जा सकते हैं और चेक कर सकते हैं कि वहां कोई प्रदूषण जांच सेंटर है या नहीं. इसके अलावा, आप ऑनलाइन Parivahan वेबसाइट पर जाकर लाइसेंसी और आरटीओ अप्रूव्ड पीयूसी सेंटर के बारे में जानकारी पा सकते हैं.
 
  • नज़दीकी पीयूसी सेंटर खोजने के बाद, अपने वाहन को वहां ले जाएं, जहां सेंटर के कर्मचारी उत्सर्जन टेस्टिंग ट्यूब को आपके वाहन के एग्जॉस्ट पाइप में डालेंगे. इससे आपके वाहन के उत्सर्जन लेवल की जानकारी मिलेगी.
 
  • इसके बाद; वह आपके लिए एक सर्टिफिकेट तैयार करेंगे, जो इलेक्ट्रॉनिक रूप से जनरेट होगा. इसमें आपके वाहन के उत्सर्जन लेवल के बारे में जानकारी शामिल होगी.
 

इसके लिए मुझे कितना खर्च करना पड़ेगा?

एक बाइक इंश्योरेंस और अन्य डॉक्यूमेंट्स के मुकाबले, पीयूसी सर्टिफिकेट की कीमत कम होती है. पीयूसी सर्टिफिकेट की कीमत लगभग रु. 50-100 तक होती है.  

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  1. क्या पीयूसी ऑनलाइन लिया जा सकता है?
हां, आप पीयूसी जारी होने के बाद इसे ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं. आपको पहले एक ऑथराइज़्ड सेंटर पर अपने वाहन को चेक कराना होगा, जिसके बाद आप Parivahan वेबसाइट से पीयूसी को ऑनलाइन डाउनलोड कर सकते हैं.  
  1. क्या नई बाइक के लिए पीयूसी सर्टिफिकेट आवश्यक है?
हां, बाइक इंश्योरेंस की तरह ही नई बाइक के लिए पीयूसी सर्टिफिकेट भी आवश्यक है. हालांकि, आपको इसके लिए किसी ऑथराइज़्ड पीयूसी सेंटर पर जाने की आवश्यकता नहीं है. डीलर द्वारा नई बाइक के साथ ही 1 वर्ष की मान्यता वाला पीयूसी दिया जाता है.  
  1. पीयूसी सर्टिफिकेट की आवश्यकता किसे होती है?
केंद्रीय मोटर वाहन अधिनियम 1989 के अनुसार हर वाहन का पीयूसी सर्टिफिकेट होना आवश्यक है. इनमें भारत स्टेज 1/भारत स्टेज 2/भारत स्टेज 3/भारत स्टेज 4 वाहन और एलपीजी/सीएनजी पर चलने वाले वाहन भी शामिल हैं.  
  1. क्या मैं Digilocker में पीयूसी सर्टिफिकेट डाउनलोड कर सकता/सकती हूं?
हां, आप DigiLocker ऐप में वाहन के अन्य सभी डॉक्यूमेंट्स के साथ पीयूसी को भी रख सकते हैं.

क्या आपको इस आर्टिकल से मदद मिली? इसे रेटिंग दें

औसत रेटिंग 3.8 / 5 वोटों की संख्या: 9

अभी तक कोई वोट नहीं मिले! इस पोस्ट को सबसे पहली रेटिंग दें.

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया?? इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

अपने विचार शेयर करें. एक कमेंट लिखें!

कृपया अपना जवाब दें

आपकी ईमेल आईडी प्रकाशित नहीं की जाएगी. सभी फील्ड आवश्यक हैं