रिस्पेक्ट सीनियर केयर राइडर: 9152007550 (मिस्ड कॉल)

सेल्स: 1800-209-0144 सर्विस चैट: +91 75072 45858

अंग्रेजी

Claim Assistance
Get In Touch
What Are The Two Major Types Of Health Insurance?
17 मार्च, 2021

हेल्थ इंश्योरेंस के दो मुख्य प्रकार क्या हैं?

पिछले कुछ समय से हमारे जीवन की गतिविधियां मुख्य रूप से हमारी और हमारे परिवार की खुशहाली और संपूर्ण स्वास्थ्य से जुड़ी रही हैं. इससे हेल्थ इंश्योरेंस इंडस्ट्री का और विकास हुआ है. हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी वह इंश्योरेंस कंपनी है जो पॉलिसीधारक को भविष्य में अचानक आने वाले मेडिकल खर्चों के भुगतान के लिए कवरेज देती है. नमन ने पहले कभी कोई भी हेल्थ इंश्योरेंस नहीं खरीदा है क्योंकि जब भी वह अपने परिवार के सदस्यों, दोस्तों या सहकर्मियों से इस बारे पूछता है तो उसे इतनी तरह-तरह की राय सुनने को मिलती हैं कि वह कुछ समझ ही नहीं पाता है कि हेल्थ इंश्योरेंस क्या है और इसे कैसे लिया जाए. साथ ही, ऑनलाइन ढेरों जानकारी उपलब्ध है जिससे वह भ्रम में पड़ गया है कि वह कौनसी पॉलिसी खरीदे और उसके लिए कौनसी पॉलिसी सबसे अच्छी है. आजकल, विभिन्न हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियां अपने कस्टमर के लिए कई प्लान पेश करती हैं, जिनमें लगभग पचास से भी अधिक बीमारियों की अधिक कवरेज, उनके नेटवर्क हॉस्पिटल में कैशलेस ट्रीटमेंट, मुफ्त मेडिकल चेक-अप और कई दूसरी सुविधाएं मिलती हैं. कई लोग इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के सेक्शन 80डी के तहत टैक्स बचाने के लिए इन्वेस्ट कर रहे थे, और उन्होंने इस बात को अनदेखा कर दिया कि विभिन्न प्रकार के हेल्थ इंश्योरेंस प्लान उपलब्ध हैं. हेल्थ इंश्योरेंस कई प्रकार का होता है, पर पॉलिसीधारक का सबसे आम सवाल होता है — हेल्थ इंश्योरेंस के दो मुख्य प्रकार क्या हैं?? या हेल्थ इंश्योरेंस के दो प्रमुख प्रकार क्या हैं?? आइए नीचे दिए गए लेख में इसके बारे में समझें.

हेल्थ इंश्योरेंस के दो मुख्य प्रकार क्या हैं?

हेल्थ इंश्योरेंस के दो मुख्य प्रकार हैं — इन्डेम्निटी पॉलिसी प्लान और डिफाइन्ड बेनेफिट पॉलिसी प्लान.

1. इन्डेम्निटी पॉलिसी प्लान

इन्डेम्निटी प्लान एक बेसिक मेडिकल इंश्योरेंस पॉलिसी प्लान है जो पॉलिसीधारक को अचानक हुए मेडिकल खर्च से सम इंश्योर्ड की लिमिट तक सुरक्षा देता है; इंश्योरेंस कंपनी हॉस्पिटलाइज़ेशन शुल्क रीइम्बर्स कर देती है. सम इंश्योर्ड राशि इंश्योरेंस कंपनी द्वारा पहले से तय की जाती है.

इन्डेम्निटी हेल्थ इंश्योरेंस के तहत आने वाले प्लान इस प्रकार हैं:

- मेडिकल इंश्योरेंस

इसे मेडिक्लेम पॉलिसी भी कहते हैं; इसमें इंश्योरेंस कंपनी पॉलिसीधारक को दुर्घटना या बीमारी के कारण हुए हॉस्पिटलाइज़ेशन के खर्च की भरपाई करती है. खर्चों में दवाओं के शुल्क, ऑक्सीजन, सर्जरी के खर्च आदि शामिल होते हैं.

- व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी

यह इंश्योरेंस पॉलिसी एक व्यक्ति के लिए होती है, और पॉलिसीधारक केवल ज़रूरी सम इंश्योर्ड तक ही क्लेम कर सकता है. उदाहरण के लिए, अगर किसी पॉलिसीधारक के पास रु. 2 लाख की इंडिविजुअल हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी है और पति/पत्नी को कवर किया गया है, तो दोनों अलग-अलग रु. 2 लाख का क्लेम कर सकते हैं.

- फैमिली फ्लोटर प्लान

यह पॉलिसी पूरे परिवार को कवर करने के लिए होती है. सम इंश्योर्ड परिवार के सदस्यों में बराबर बंट जाता है, और कोई मेडिकल एमरजेंसी होने पर परिवार का एक सदस्य पूरी राशि का उपयोग भी कर सकता है. फैमिली फ्लोटर प्लान का प्रीमियम इंडिविज़ुअल प्लान से कम होता है.

- सीनियर सिटीज़न प्लान

यह पॉलिसी 60 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों के लिए बनाई गई है. इसमें आम तौर पर अधिक सम एश्योर्ड मिलता है और साथ में पहले से मौजूद बीमारियों का कवर, दूसरी गंभीर बीमारियों का कवर, कैशलेस हॉस्पिटलाइज़ेशन, एंबुलेंस शुल्क, हॉस्पिटलाइज़ेशन के शुल्क, डे-केयर के खर्च आदि लाभ भी मिलते हैं.

इन्डेम्निटी प्लान के क्लॉज़ में शामिल हैं डिडक्टिबल

— मेडिकल एमरजेंसी की स्थिति में पॉलिसीधारक को एक पहले से तय राशि हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी को चुकानी होती है, उसके बाद ही वह क्लेम की राशि रीइम्बर्स करती है. और सह-भुगतान क्लॉज़ — जिसमें मेडिकल एमरजेंसी की स्थिति में क्लेम राशि का एक तय प्रतिशत इंश्योरेंस कंपनी चुकाती है और बाकी की राशि पॉलिसीधारक को चुकानी होती है. यह क्लॉज़ आम तौर पर सीनियर सिटीज़न हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में देखने को मिलता है.  

2. डिफाइन्ड बेनेफिट पॉलिसी प्लान

डिफाइन्ड बेनेफिट हेल्थ पॉलिसी कवरेज में शामिल किसी घटना के घटित होने पर एक तय राशि चुकाती है. हॉस्पिटल कैश पॉलिसी, क्रिटिकल इलनेस पॉलिसी, प्रमुख सर्जरी आदि डिफाइन्ड बेनेफिट हेल्थ प्लान के अंतर्गत आते हैं. महत्वपूर्ण हेल्थ पॉलिसी में आमतौर पर बेनेफिट प्लान के तहत डिफाइन्ड होते हैं. कोई इंश्योर्ड गंभीर बीमारी डाइग्नोस होने पर इंश्योरेंस कंपनी कवरेज या सम एश्योर्ड का भुगतान करती है, भले ही हॉस्पिटल का खर्च कुछ भी हो.

हेल्थ इंश्योरेंस के दो प्रमुख प्रकार क्या हैं?

मेडिकल इंश्योरेंस और क्रिटिकल इलनेस भारत में मिलने वाले हेल्थ इंश्योरेंस के दो प्रमुख प्रकार हैं और वे बेसिक हेल्थ इंश्योरेंस प्लान हैं. भारत में, जब हेल्थ इंश्योरेंस की बात आती है, तो बजाज आलियांज़ हर कस्टमर के लिए कस्टमाइज़ किए गए, अधिकतम कवरेज वाले और किफायती हेल्थ इंश्योरेंस प्लान की रेंज के मामले में सबसे आगे है, जिनकी मदद से हॉस्पिटल बिल में पैसों की और टैक्स की, दोनों की बचत होती है.

हेल्थ इंश्योरेंस के बारे में पॉलिसीधारकों के कुछ आम सवाल इस प्रकार हैं:

1. ग्रुप हेल्थ इंश्योरेंस क्या है?

ग्रुप हेल्थ इंश्योरेंस एक ही कंपनी में एक साथ काम करने वाले कर्मचारियों के समूह के लिए होता है, और कंपनी इसे अपने कर्मचारियों को देती है.

2. हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने से पहले कौनसी तीन मुख्य बातें चेक करनी चाहिए?

  • कम से कम प्रतीक्षा अवधि वाला हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी प्लान चुनें.
  • कैशलेस क्लेम के लिए अधिक से अधिक नेटवर्क हॉस्पिटल.
  • ऐसा प्लान जिसमें अधिक से अधिक आयु तक रिन्यूअल किया जा सकता हो.

अंतिम विचार

मेडिकल इंश्योरेंस अलग-अलग व्यक्ति के लिए अलग-अलग हो सकता है और यह मुख्य रूप से उनकी आयु, मेडिकल स्थिति, और लाइफ स्टाइल पर निर्भर करता है. इन्डेम्निटी प्लान और डिफाइन्ड बेनेफिट प्लान, दोनों के अपने-अपने लाभ हैं; दोनों पॉलिसी ले लेने से अचानक आने वाली किसी भी मेडिकल एमरजेंसी लिए कम्प्रीहेंसिव कवर मिल जाता है. दोनों पॉलिसी के बीच बैलेंस बनाने से, हॉस्पिटलाइज़ेशन से पहले और बाद के सभी खर्चों की कवरेज सुनिश्चित होती है.

क्या आपको इस आर्टिकल से मदद मिली? इसे रेटिंग दें

औसत रेटिंग 0 / 5 वोटों की संख्या: 0

अभी तक कोई वोट नहीं मिले! इस पोस्ट को सबसे पहली रेटिंग दें.

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया?? इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

अपने विचार शेयर करें. एक कमेंट लिखें!

कृपया अपना जवाब दें

आपकी ईमेल आईडी प्रकाशित नहीं की जाएगी. सभी फील्ड आवश्यक हैं