रिस्पेक्ट सीनियर केयर राइडर: 9152007550 (मिस्ड कॉल)

सेल्स: 1800-209-0144 सर्विस चैट: +91 75072 45858

अंग्रेजी

Claim Assistance
Get In Touch
Types of Number Plates in India
18 मई, 2022

वाहन की नंबर प्लेट के दिखने का सही तरीका क्या है?

वाहन के लाइसेंस प्लेट को 'नंबर प्लेट' भी कहा जाता है’. नंबर प्लेट मेटल की एक प्लेट होती है, जो मोटर वाहन पर लगी होती है और वाहन का रजिस्ट्रेशन नंबर इस पर उभरा हुआ होता है. ऑफिशियल लाइसेंस प्राप्त प्लेट नंबर में 4 अलग-अलग हिस्से और मतलब होते हैं. हर हिस्से का अपना एक उद्देश्य है. नंबर प्लेट मोटर वाहन के सामने की ओर और पीछे की ओर, दोनों तरफ लगाई जाती है. वाहन का दिखाई देने वाला नंबर वाहन की पहचान करने में मदद करता है.

नंबर प्लेट के फॉर्मेट को समझें

मोटर वाहन अधिनियम के नियम 50 और 51 के अनुसार, किसी भी मोटर वाहन मालिक को एक खास नंबर प्लेट का उपयोग करना होगा, जिसे सड़क परिवहन प्राधिकरण जारी करता है. भारतीय सड़कों पर चलने के लिए, यह ज़रूरी है कि आपके पास थर्ड पार्टी इंश्योरेंस हो, जो बुनियादी मोटर इंश्योरेंस के प्रकार के अंतर्गत आता है. आइए, हम एक नंबर प्लेट के हिस्सों के बारे में संक्षेप में समझते हैं.

पार्ट 1

पहला हिस्से का मतलब है केन्द्र शासित प्रदेश या राज्य, जिसे दो अक्षरों द्वारा दिखाया जाता है. उदाहरण के तौर पर, महाराष्ट्र में मोटर वाहन नंबर प्लेट एमएच के कोड से शुरू होती है. दिल्ली में डीएल से और इसी तरह अन्य राज्यों में शुरू होती है. इसके लिए राज्यों/केन्द्र शासित राज्यों के नाम के महत्वपूर्ण अक्षरों का उपयोग किया जाता है. यह नियम लगभग 1980 के समय शुरू हुई थी.

पार्ट 2

नंबर प्लेट में इससे अगले 2 अंक राज्यों के क्रम संख्या को दिखाते हैं. प्रत्येक राज्य के हर जिले का एक नंबर होता है. अगर आपको नहीं पता है, तो जान लीजिए, हर जिले में नए वाहनों का रजिस्ट्रेशन किया जाता है. इसका मतलब है कि प्रत्येक जिले का अपना क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय होता है, जो मोटर वाहन रजिस्ट्रेशन और ड्राइवर के लाइसेंस से जुड़े कामों को देखता है.

पार्ट 3

आगे, लाइसेंस प्लेट का तीसरा हिस्सा एक यूनीक नंबर होता है, जिससे वाहन की पहचान आसानी से की जा सकती है. अगर नंबर उपलब्ध नहीं है, तो अंतिम अंकों को बदलने के लिए अक्षरों का उपयोग किया जाता है. यह अतिरिक्त संख्या में सभी मोटर वाहनों के लिए कोड को सुनिश्चित करता है. पैसे देकर अपनी पसंद का नंबर खरीदना भी एक आम तरीका है.

पार्ट 4

चौथा हिस्सा, एक अंडाकार लोगो है, जिसे 'आईएनडी' पढ़ा जाता है, जिसका मतलब भारतीय होता है*. इस अंडाकार में ऊपर की ओर एक क्रोमियम होलोग्राम भी होता है, जो चक्र जैसा दिखता है. इसका इस्तेमाल अधिकतर हाई-सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट में किया जाता है और इसे 2005 से टैम्पर-प्रूफ बनाना शुरू किया गया है. यह सभी मोटर वाहनों के लिए अनिवार्य* है, लेकिन कुछ राज्यों का अभी इसे अपनाना बाकी है. *मानक नियम व शर्तें लागू इन सभी यूनीक कोड को मोटर वाहन को एक यूनीक आइडेंटिफिकेशन नंबर बनाने के लिए एक साथ लिखा जाता है.

भारत में नंबर प्लेट से संबंधित नियम जानें

अपने वाहन की अधिकतम सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, आपको सलाह दी जाती है कि आप चुनें कम्प्रीहेंसिव मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी. एमवी अधिनियम (नियम 50 और 51) के अनुसार, भारतीय वाहन मालिकों को भारत में नंबर प्लेट से जुड़े निम्नलिखित नियमों का ध्यान रखना होगा: टू-व्हीलर के लिए और हल्के मोटर वाहनों, जैसे कार के लिए रजिस्ट्रेशन अक्षर और नंबर सफेद बैकग्राउंड पर काले रंग से लिखे होने चाहिए. कमर्शियल वाहनों के लिए पीले बैकग्राउंड पर काले रंग से लिखे होने चाहिए. मोटर वाहन की हर कैटेगरी के वाहन की नंबर प्लेट और उसके अक्षरों के साइज़ के बारे में पैम्फलेट में बताया जाएगा. फैंसी तरीके से लिखे हुए अक्षरों की अनुमति नहीं है. इसके अलावा नंबर प्लेट पर अन्य फोटो, आर्ट और नाम लिखने की भी अनुमति नहीं है. नंबर प्लेट को सभी मोटर वाहनों के सामने की ओर और पीछे की ओर, दोनों तरफ लगाया जाना चाहिए. मोटरबाइक के मामले में, सामने की ओर लगे रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट को वाहन के किसी भी हिस्से, जैसे मडगार्ड या प्लेट पर इस तरह लगाया जाना चाहिए कि वह हैंडलबार की सीध में दिखाई दे.

भारत में वाहन की नंबर प्लेट का साइज़ क्या होना चाहिए?

नीचे दी गई टेबल में भारत में नंबर प्लेट के साइज़ के बारे में बताया गया है:

वाहन का प्रकार

साइज़

टू और थ्री-व्हीलर 200 x 100 mm
हल्के मोटर वाहन. पैसेंजर कार 340 x 200 mm या 500 x 120 mm
मीडियम या हैवी कमर्शियल वाहन 340 x 200 mm
रेफ: https://orbiz.in/number-plate-rules-in-india/ आइए, अब आगे रजिस्ट्रेशन से जुड़े अक्षरों और अंकों के साइज़ को समझते हैं:

वाहन की कैटेगरी

आकार mm में

लंबाई मोटाई स्पेस
70 cc से कम इंजन क्षमता वाले मोटरबाइक सामने के अक्षर और अंक 15 2.5 2.5
500 cc से अधिक की इंजन क्षमता वाले थ्री-व्हीलर आगे और पीछे के अंक और अक्षर 40 07 05
500 cc से कम इंजन क्षमता वाले थ्री-व्हीलर आगे और पीछे के अंक और अक्षर 35 07 05
सभी मोटरबाइक और दिव्यांगों की आवश्यकता वाले थ्री-व्हीलर सामने के अक्षर और अंक 30 05 05
पीछे के अक्षर 35 07 05
पीछे के अंक 40 07 05
अन्य सभी मोटर वाहन आगे और पीछे के अंक और अक्षर 65 10 10
रेफ: https://orbiz.in/number-plate-rules-in-india/

संक्षेप में

भारत के एक ज़िम्मेदार नागरिक के रूप में, आपका देश भर के लाइसेंस नंबर में इस्तेमाल किए जाने वाले सभी प्रकारों के बारे में जानना महत्वपूर्ण है. यह सुनिश्चित करें कि आप संबंधित प्राधिकरणों से जुड़े प्रत्येक नियम का पालन कर रहे हैं. इसके अलावा, मोटर इंश्योरेंस का लाभ उठाने के लिए समय पर इंश्योरेंस रिन्यूअल कराना न भूलें. मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी आपकी सभी ज़रूरतों को पूरा करती है.     बीमा आग्रह की विषयवस्तु है. लाभों, शामिल न की गई चीज़ों, सीमाओं, नियम और शर्तों के बारे में अधिक जानकारी के लिए, कृपया इंश्योरेंस खरीदने से पहले सेल्स ब्रोशर/पॉलिसी डॉक्यूमेंट को ध्यान से पढ़ें.  

क्या आपको इस आर्टिकल से मदद मिली? इसे रेटिंग दें

औसत रेटिंग 3 / 5 वोटों की संख्या: 2

अभी तक कोई वोट नहीं मिले! इस पोस्ट को सबसे पहली रेटिंग दें.

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया?? इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

अपने विचार शेयर करें. एक कमेंट लिखें!

कृपया अपना जवाब दें

आपकी ईमेल आईडी प्रकाशित नहीं की जाएगी. सभी फील्ड आवश्यक हैं