रिस्पेक्ट सीनियर केयर राइडर: 9152007550 (मिस्ड कॉल)

सेल्स: 1800-209-0144| सर्विस: 1800-209-5858 सर्विस चैट: +91 75072 45858

अंग्रेजी

Claim Assistance
Get In Touch
First Party Bike Insurance
31 मार्च, 2021

बाइक का फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस क्या होता है?

नई बाइक या स्कूटर लिया है? बहुत अच्छा अनुभव हुआ होगा! ज़रा रुकिए! क्या आपने उसका टू व्हीलर इंश्योरेंस कराया? अगर नहीं, तो अभी कराएं. नई बाइक या स्कूटर के लिए इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदना न केवल ज़रूरी है, बल्कि अनिवार्य भी है. हम यह बात समझते हैं कि कुछ लोग इंश्योरेंस खरीदते समय सोच में पड़ सकते हैं कि उन्हें कौन सा इंश्योरेंस लेना चाहिए. दो बेसिक इंश्योरेंस प्लान उपलब्ध हैं, जिनके नाम हैं:  
  • 1st पार्टी इंश्योरेंस
  • थर्ड पार्टी इंश्योरेंस
  अब यूज़र के मन में यह सवाल उठना लाज़मी है कि बाइक का 1st पार्टी इंश्योरेंस और थर्ड पार्टी इंश्योरेंस क्या होते हैं. अगर आपके मन में भी यही सवाल उठ रहा है, तो यह आर्टिकल आप ही के लिए है. अधिक जानने के लिए आगे पढ़ें  

बाइक का 1st पार्टी इंश्योरेंस क्या होता है?

फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस एक ऐसी पॉलिसी है, जिसे व्यक्ति सीधे किसी इंश्योरेंस कंपनी या फर्म से खरीदता है. इसका दूसरा नाम है कम्प्रीहेंसिव टू व्हीलर इंश्योरेंस पॉलिसी. फर्स्ट पार्टी पॉलिसी के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि यह आपको लगभग हर चीज़ के लिए कवर करती है. चाहे आपकी बाइक दुर्घटना में डैमेज हो या किसी प्राकृतिक आपदा में, आपको फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस से निश्चित रूप से लाभ मिलेगा. फर्स्ट पार्टी पॉलिसी की कुछ विशेषताएं यहां दी गई हैं:  
  • ओन डैमेज कवर: आपको या आपके वाहन को हुए किसी भी डैमेज को इसके तहत कवर किया जाएगा.
  • थर्ड पार्टी लायबिलिटी: अगर किसी दुर्घटना में आपके कारण किसी थर्ड पार्टी को कोई डैमेज होता है, तो उसे भी इस कम्प्रीहेंसिव पॉलिसी में कवर किया जाएगा.
  • पर्सनल एक्सीडेंट कवर: The first party insurance providers also have a PA (पर्सनल एक्सीडेंट) cover feature in the policy. The insured gets up to Rs 15 lakhs if he or she suffers severe injuries in the accident.
  इनके साथ-साथ, आप अपनी पॉलिसी में ऐड-ऑन भी शामिल कर सकते हैं, जैसे सहयात्री के लिए कवर, ज़ीरो डेप्रिसिएशन, रोडसाइड असिस्टेंस और रिटर्न टू इनवॉइस. फर्स्ट पार्टी पॉलिसी या कम्प्रीहेंसिव पॉलिसी की जिस एकमात्र बात पर आपको ध्यान देना है, वह है उसका प्रीमियम. इस तरह की पॉलिसी का प्रीमियम अधिक होता है, लेकिन आपको मिलने वाला मुआवज़ा भी अधिक होता है. कम्प्रीहेंसिव कवर की कुछ अन्य विशेषताएं ये हैं:  
  • आग से डैमेज
  • बाढ़ से डैमेज
  • तोड़-फोड़
  • चोरी
 

क्या थर्ड पार्टी इंश्योरेंस कवर, फर्स्ट पार्टी कवर से बेहतर होता है?

इस सवाल का जवाब जानने से पहले, आइए टू व्हीलर इंश्योरेंस थर्ड पार्टी कवर के बारे में जानें. थर्ड-पार्टी इंश्योरेंस एक कवर है, जो आपको दुर्घटना में थर्ड पार्टी को हुए नुकसान के लिए क्षतिपूर्ति प्रदान करता है. अगर आपकी बाइक किसी दुर्घटना में क्षतिग्रस्त हो जाती है, तो अन्य पार्टी उसके लिए भुगतान करेगी, बशर्ते कि उनके पास टीपी (थर्ड पार्टी) कवर हो. थर्ड-पार्टी इंश्योरेंस आपकी बाइक को होने वाले किसी भी नुकसान के लिए भुगतान नहीं करता है. हालांकि, अगर आपने अपने टीपी कवर के साथ पीए कवर लिया है, तो अगर आपको कोई चोट लगती है, तो आप क्षतिपूर्ति प्राप्त कर सकते हैं. अब मुख्य सवाल यह है, क्या फर्स्ट पार्टी कवर की तुलना में थर्ड पार्टी इंश्योरेंस कवर बेहतर है? यह केवल पुराने वाहनों के मामले में लाभदायक है, जिसकी कीमत कम होती है और कम होता है इंश्योरेंस में आईडीवी. अगर आपके पास कोई पुरानी बाइक है, जिसे आप अक्सर चलाते हैं, तो आप उसके लिए टीपी कवर ले सकते हैं. उसका प्रीमियम कम होगा, लेकिन अगर आपकी बाइक नई है और उसकी आईडीवी अधिक है, तो फर्स्ट पार्टी कवर लेना ही बेहतर होगा.  

क्या मेरा फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस क्लेम अस्वीकार हो सकता है?

हां, आपका फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस क्लेम कुछ मामलों में अस्वीकार हो सकता है, जैसे:  
  • अगर ड्राइवर नशे में वाहन चला रहा है.
  • अगर ड्राइवर बिना लाइसेंस के वाहन चला रहा है, तो भी आपका क्लेम अस्वीकार हो सकता है.
  • अगर आप अपने निजी वाहन का उपयोग कारोबारी काम से या रेसिंग और स्टंट जैसी चीज़ों में कर रहे हैं.
  • अगर आप पॉलिसी समाप्त होने के बाद कवर का क्लेम कर रहे हैं.
  • अगर आप किसी ऐसी घटना के लिए क्लेम कर रहे हैं, जो आपकी पॉलिसी में लिखी नहीं है.
 

आप फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस का क्लेम कैसे कर सकते हैं?

अब आप अच्छी तरह जानते हैं कि 1st पार्टी इंश्योरेंस क्या होता है, आइए अब जानें कि कोई दुर्घटना होने पर 1st पार्टी कवर का क्लेम कैसे किया जाता है. इसके लिए चरण इस प्रकार हैं:  
  • अगर आपकी बाइक को किसी दुर्घटना या प्राकृतिक आपदा में डैमेज होता है, तो पहले उसके बारे में इंश्योरेंस कंपनी को सूचित करें और एफआईआर भी फाइल करें.
  • इंश्योरेंस कंपनी को सूचित करने के बाद, बाइक के डैमेज की जांच के लिए एक सर्वेयर आएंगे.
  • जांच के बाद, इंश्योरेंस कंपनी बाइक की रिपेयरिंग शुरू कराएगी. अगर आप अपनी पसंद की जगह पर रिपेयरिंग कराना चाहते हैं, तो आपको अपनी जेब से शुल्क चुकाने होंगे, जिसे बाद में इंश्योरेंस कंपनी एक तय लिमिट तक रीइम्बर्स कर देगी. अगर आप इंश्योरेंस कंपनी द्वारा चुनी गई रिपेयर शॉप चुनते हैं, तो आपको कोई भी शुल्क नहीं चुकाना होगा. उनका भुगतान इंश्योरेंस कंपनी करेगी.
 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  1. क्या फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस अनिवार्य है?
के अनुसार मोटर वाहन अधिनियम, हर व्यक्ति के पास अपने वाहन के लिए कम से कम एक थर्ड पार्टी टू-व्हीलर इंश्योरेंस होना चाहिए. हालांकि, फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस लेना ज़रूरी नहीं है. वैसे अगर आपके पास नई बाइक है तो फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस ले लेना बेस्ट रहता है.  
  1. मेरी बाइक का इंश्योरेंस प्रीमियम कितना होगा?
वैसे तो प्रीमियम की राशि कई चीज़ों से तय होती है, लेकिन अगर आपको रेंज जाननी है, तो, यह राशि बाइक के इंजन की क्षमता पर निर्भर करती है. थर्ड पार्टी इंश्योरेंस प्रीमियम इंजन के सीसी के आधार पर रु. 450 से रु. 2400 तक हो सकता है.

क्या आपको इस आर्टिकल से मदद मिली? इसे रेटिंग दें

औसत रेटिंग 5 / 5 वोटों की संख्या: 18

अभी तक कोई वोट नहीं मिले! इस पोस्ट को सबसे पहली रेटिंग दें.

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया?? इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

अपने विचार शेयर करें. एक कमेंट लिखें!

कृपया अपना जवाब दें

आपकी ईमेल आईडी प्रकाशित नहीं की जाएगी. सभी फील्ड आवश्यक हैं