रिस्पेक्ट सीनियर केयर राइडर: 9152007550 (मिस्ड कॉल)

सेल्स: 1800-209-0144 सर्विस चैट: +91 75072 45858

अंग्रेजी

Claim Assistance
Get In Touch
Bike Insurance GST Rates in 2022
19 फरवरी, 2022

भारत में बाइक इंश्योरेंस पर जीएसटी

जीएसटी को गुड्स एंड सर्विस टैक्स भी कहा जाता है और इस टैक्स सुधार की भारत में बहुत दिनों से आवश्यकता थी. जीएसटी के दायरे में कारोबार या सर्विस के रूप में प्रदान की जाने वाली लगभग सभी चीज़ें शामिल हैं और यह रोज़मर्रा के सामानों पर लगने वाले टैक्स को आसान बनाने की दिशा में एक बेहतर कदम है. इन सर्विस में बाइक इंश्योरेंस भी शामिल है. जीएसटी के लागू होने से पहले ऐसे बहुत से टैक्स जमा करने पड़ते थे, जिनका बोझ प्रॉडक्ट या सर्विस लेने वाले उपभोक्ता पर ही पड़ता था. ऐसा ही बाइक इंश्योरेंस पॉलिसी के मामले में भी था. लेकिन अब ऐसा नहीं है, जबसे 01st जुलाई 2017 से जीएसटी लागू हुआ है, इसने सभी गुड्स और सर्विस पर लगने वाले टैक्स को आसान बना दिया है. आपके द्वारा खरीदा गया टू व्हीलर इंश्योरेंस, इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा प्रदान की जाने वाली ऐसी एक सर्विस है, जिसमें आपको अपनी बाइक के नुकसान का रिइम्बर्समेंट मिलता है. इसलिए, इसे जीएसटी के दायरे में शामिल किया गया है.

बाइक इंश्योरेंस पर जीएसटी

जीएसटी काउंसिल विभिन्न गुड्स और सर्विस पर लागू होने वाली टैक्स दरों का फैसला करती है. बाइक या टू व्हीलर इंश्योरेंस भी सर्विस के दायरे में आता है, इसलिए बाइक इंश्योरेंस प्रीमियम पर लगने वाली जीएसटी की दर 18% है. जीएसटी के तहत विभिन्न प्रकार के प्रॉडक्ट्स और सर्विस के लिए 0%, 5%, 12%, 18% और 28% की पांच अलग-अलग दरें निर्धारित हैं. इंश्योरेंस प्रॉडक्ट के लिए पहले सर्विस टैक्स की दर 15% थी, लेकिन अब प्रीमियम राशि में 3% तक की बढ़ोत्तरी की गई है. कृपया ध्यान दें कि जीएसटी टैक्स कानूनों में बदलाव के अधीन है. इसे एक उदाहरण से समझा जा सकता है. मान लें कि आपने जीएसटी लागू होने से पहले एक बाइक इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदी थी. उस थर्ड-पार्टी पॉलिसी के प्रीमियम की कीमत लगभग रु.1000 थी, और उस पर लगने वाला टैक्स 15% था और इस तरह, तब आपको कुल रु. 1150 देने पड़ते थे. लेकिन जीएसटी के आने के बाद, आपको वही थर्ड पार्टी बाइक इंश्योरेंस पॉलिसी, जिसकी कीमत रु.1000 थी, वह आपको जीएसटी की 18% टैक्स दर के कारण रु.1180 की पड़ेगी. लेकिन, अगर आप ऑनलाइन टू-व्हीलर इंश्योरेंस खरीदते हैं, तो इंश्योरेंस कंपनियां टैक्स दर में होने वाली ऐसी बढ़ोत्तरी की भरपाई करने में सक्षम होती है और इसके लिए कम दिखा सकती हैं बाइक इंश्योरेंस की कीमत. इस तरह, ऑनलाइन इंश्योरेंस प्लान खरीदते समय ऑफर की जाने वाली छूट के कारण बढ़े हुए टैक्सेशन के निवल प्रभाव को कम किया जा सकता है. यह मध्यस्थ व्यक्तियों के नहीं रहने के कारण संभव होता है, क्योंकि इंश्योरेंस कंपनी द्वारा इंश्योरेंस पॉलिसी सीधे आपको बेची जाती है. टू व्हीलर इंश्योरेंस पर जीएसटी के प्रभाव के बावजूद, सही प्रकार का इंश्योरेंस प्लान चुनना महत्वपूर्ण है. थर्ड-पार्टी कवर और कॉम्प्रिहेंसिव कवर के रूप में दो प्रकार के प्लान होते हैं, जिनमें से आप चुन सकते हैं. कम्प्रीहेंसिव प्लान अपने नुकसान के साथ-साथ थर्ड पार्टी की कानूनी दायित्वों के लिए भी कवरेज प्रदान करता है. थर्ड-पार्टी कवरेज के मामले में यह केवल थर्ड-पर्सन की कानूनी दायित्वों तक सीमित होता है. इसलिए, इसे लायबिलिटी-ओनली पॉलिसी भी कहा जाता है. लायबिलिटी-ओनली पॉलिसी के लिए, प्रीमियम इंश्योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (आईआरडीएआई) द्वारा निर्धारित किए जाते हैं और प्रीमियम दर पर 18% का जीएसटी लगाया जाता है. कम्प्रीहेंसिव प्लान के साथ भी यही होता है, इसमें पूरा प्रीमियम, यानी थर्ड पार्टी प्रीमियम और ओन डैमेज प्रीमियम की कुल राशि पर 18% जीएसटी लगाया जाता है. जीएसटी आपके इंश्योरेंस कवरेज की लागत को प्रभावित करता है, लेकिन यह पॉलिसी की खरीदी के लिए निर्धारित कारक नहीं होना चाहिए. आपको खरीद को अंतिम रूप देने से पहले इनक्लूज़न और एक्सक्लूज़न के साथ पॉलिसी की विशेषताओं पर भी विचार करना चाहिए. बीमा आग्रह की विषयवस्तु है. लाभ, शामिल न की गई चीज़ों, सीमाओं, नियम और शर्तों के बारे में अधिक जानकारी के लिए, कृपया बिक्री समाप्त करने से पहले सेल्स ब्रोशर/पॉलिसी नियमावली को ध्यान से पढ़ें.

क्या आपको इस आर्टिकल से मदद मिली? इसे रेटिंग दें

औसत रेटिंग 0 / 5 वोटों की संख्या: 0

अभी तक कोई वोट नहीं मिले! इस पोस्ट को सबसे पहली रेटिंग दें.

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया?? इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

अपने विचार शेयर करें. एक कमेंट लिखें!

कृपया अपना जवाब दें

आपकी ईमेल आईडी प्रकाशित नहीं की जाएगी. सभी फील्ड आवश्यक हैं