रिस्पेक्ट सीनियर केयर राइडर: 9152007550 (मिस्ड कॉल)

सेल्स: 1800-209-0144 सर्विस चैट: +91 75072 45858

अंग्रेजी

Claim Assistance
Get In Touch
Ways to Strengthen Your Mental Health
12 अप्रैल, 2021

मेंटल हेल्थ इंश्योरेंस की कवरेज

हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने से आपकी सभी मेडिकल ज़रूरतों की पूर्ति सुनिश्चित होती है. बात चाहे आपके पति/आपकी पत्नी की हो या आपके बच्चों या माता-पिता की, हेल्थ प्लान आपकी ज़रूरतों के हिसाब से कस्टमाइज़ हो सकते हैं. लेकिन मेंटल हेल्थ का क्या?? क्या आपके प्रियजन मानसिक रोगों के लिए कवर्ड हैं?? आपने देखा होगा कि अधिकतर इंश्योरेंस कंपनियां मानसिक रोग स्थितियों को पहले एक्सक्लूज़न में रखती थीं पर अब नहीं. यहां हम मेंटल हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज के बारे में संक्षेप में बता रहे हैं.   मेंटल हेल्थ इंश्योरेंस के तहत क्या-क्या कवर होता है? पिछले कुछ समय से मेंटल हेल्थ पर काफी ध्यान दिया जाने लगा है, जो इस प्रकार के रोगों की गंभीरता पर प्रकाश डालता है. इन्हें अनदेखा नहीं किया जा सकता था. ऐसे रोग गंभीर समस्या हैं, जिनसे कई व्यक्ति बीमार होते हैं. इंश्योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (आईआरडीएआई) ने जल्द ही मेंटल हेल्थ कवरेज को शामिल करने की दिशा में काम करना शुरू किया, जिसके कारण मेंटल हेल्थकेयर एक्ट, 2017 बना. इस एक्ट ने ऐसे रोगों से ग्रस्त व्यक्तियों को सही मेंटल हेल्थकेयर उपचार और सेवाएं प्रदान करने की कोशिश की. मेंटल हेल्थकेयर एक्ट, 2017 में मानसिक रोग या मानसिक अस्वस्थता की परिभाषा इस प्रकार है: “सोचना, मनोदशा, समझना, विचारधारा या स्मृति का कोई ऐसा उल्लेखनीय विकार, जो विवेक, व्यवहार, वास्तविकता को पहचानने की क्षमता या जीवन के रोज़मर्रा के दायित्वों को पूरा करने की योग्यता को बहुत अधिक कमज़ोर कर देता है, इसमें एल्कोहॉल और दवाओं के दुरुपयोग से जुड़ी मानसिक स्थितियां शामिल हैं (लेकिन इसमें मानसिक मंदता शामिल नहीं है), उसका अर्थ किसी व्यक्ति के रुके हुए या अधूरे मानसिक विकास से है, जिसमें विशेष रूप से बुद्धि की असामान्यता देखने को मिलती है". इसलिए, आपके हेल्थ इंश्योरेंस प्लान में मेंटल हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज भी होगी, और अगर आपकी मानसिक स्थिति ऊपर बताए गए किसी भी मानदंड के तहत आती है तो आप क्लेम फाइल कर सकेंगे.   मेंटल हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज के तहत क्या कवर नहीं होता है? एक्ट में दी गई परिभाषा के आधार पर, दो स्पष्ट एक्सक्लूज़न हैं जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए. पहला एक्सक्लूज़न है व्यक्ति में किसी भी प्रकार की मानसिक मंदता, और दूसरा एक्सक्लूज़न है दवाओं या एल्कोहॉल के दुरुपयोग से हुए मानसिक रोग. साथ ही, मेंटल हेल्थ इंश्योरेंस केवल हॉस्पिटलाइज़ेशन में हुए खर्चों को कवर करता है यानी आउट-पेशेंट ट्रीटमेंट, जैसे कंसल्टेशन, कवर नहीं होता है. आपके हेल्थ प्लान में कुछ मानसिक रोगों के लिए विशेष एक्सक्लूज़न हो सकते हैं, जिनमें से कई के साथ प्रतीक्षा अवधि की शर्त जुड़ी हो सकती है. पहले से मौजूद स्वास्थ्य स्थितियों की ही तरह, आपको पहले से मौजूद मानसिक विकार के खंडों पर भी नज़र रखनी होगी. इसलिए, हमारी सलाह है कि आप अपने पॉलिसी डॉक्यूमेंट को ध्यान से पढ़ें और नियम और शर्तों के साथ-साथ एक्सक्लूज़न को भी समझें.   मेंटल हेल्थ इंश्योरेंस के बारे में ऐसी कुछ बातें जो आपको पता होनी चाहिए   मेंटल हेल्थ क्लेम फाइल करने के लिए कम से कम कितनी अवधि का हॉस्पिटलाइज़ेशन ज़रूरी है? हॉस्पिटलाइज़ेशन की अवधि कम से कम 24 घंटे की होनी चाहिए इंश्योरेंस क्लेम मेंटल हेल्थ इंश्योरेंस के तहत.   क्या इंश्योरेंस कंपनियां मेंटल हेल्थ कवरेज के तहत OPD या कंसल्टेशन शुल्क कवर करेंगी? हालांकि, एक्ट के दिशानिर्देश यह आवश्यक करते हैं कि किसी भी रोग से इस आधार पर भेदभाव न बरता जाए कि वह शारीरिक है या मानसिक, पर यह कवरेज अलग-अलग इंश्योरेंस कंपनियों में अलग-अलग होती है. लेकिन कई इंश्योरेंस कंपनियां शारीरिक रोगों के लिए भी आउट-पेशेंट ट्रीटमेंट को कवर नहीं करती हैं, इसलिए हमारी सलाह है कि आप अपनी इंश्योरेंस कंपनी से पूछें.   मानसिक स्वास्थ्य विकारों में कौन-कौनसे रोग आते हैं? नीचे कुछ ज्ञात मानसिक रोग हैं जो मानसिक स्वास्थ्य विकारों में गिने जाते हैं:
  • बाइपोलर विकार
  • एक्यूट डिप्रेशन
  • घबराहट की बीमारियां
  • स्किट्ज़ोफ्रीनिआ
  • मूड डिसऑर्डर
  • सायकोटिक डिसऑर्डर
  • पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर / किसी आघात के बाद होने वाला चिंता विकार
  • ऑब्सेसिव कम्पल्सिव डिसऑर्डर
  • अटेंशन-डेफिसिट/हाइपरऐक्टिविटी डिसऑर्डर
  मानसिक स्वास्थ्य रोगों को शामिल करने का क्या मतलब है? आपके हेल्थ प्लान के तहत मानसिक विकारों को शामिल करने का मतलब यह है कि अगर आपको मानसिक रोगों के लिए कवर किया गया है तो इंश्योरेंस कंपनी क्लेम से इंकार नहीं कर सकती है. साथ ही, अगर हेल्थ प्लान खरीदने के बाद किसी विकार के होने की पहचान होती है तो आप सफल क्लेम कर सकते हैं. लेकिन आपको पता होना चाहिए कि इंश्योरेंस कंपनी पहले से मौजूद मानसिक रोगों को पॉलिसी के तहत कवर करने के लिए ज़िम्मेदार नहीं है, इसलिए खरीद से पहले पॉलिसी के नियमों और शर्तों को अच्छे से समझ लें और अपने सभी प्रश्नों के उत्तर इंश्योरेंस कंपनी से पूछ लें.

क्या आपको इस आर्टिकल से मदद मिली? इसे रेटिंग दें

औसत रेटिंग 3 / 5 वोटों की संख्या: 2

अभी तक कोई वोट नहीं मिले! इस पोस्ट को सबसे पहली रेटिंग दें.

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया?? इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

अपने विचार शेयर करें. एक कमेंट लिखें!

कृपया अपना जवाब दें

आपकी ईमेल आईडी प्रकाशित नहीं की जाएगी. सभी फील्ड आवश्यक हैं